Friday, Sep 30, 2022
-->
men are more infected with corona know what are the reasons prsgnt

कोरोना से जंग: कोरोना से पुरुष ज्यादा होते हैं संक्रमित, जानिए क्या हैं इसके कारण

  • Updated on 4/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार अपनी तरफ से कई कड़े नियम लागू कर रही है। लॉकडाउन, इलाकों को सील करना और फेस मास्क अनिवार्य रूप से पहनना इनमें महत्वपूर्ण रूप से शामिल है। इसक अलावा भी स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी निर्देशों में भी पर्सनल केयर को ज्यादा तवज्जो दी गई है।

वहीँ, एक शोध द्वारा यह भी सामने आया है कि महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में कोरोना वायरस ज्यादा तेजी से फैलता है। यह बात इस तरह से भी सिद्ध होती है कि दुनियाभर में पुरुषों के कोरोना संक्रमित मामले ज्यादा सामने आए हैं।

कोरोना से जंग: वैज्ञानिकों ने बनाया स्पेशल डिवाइस, कोरोना जंग में ऐसे देगा साथ

इस बारे में दुनियाभर के 6 देशों में आंकड़ों की तुलना की गई तो महिलाओं के कोरोना मामले कम पाए गये हैं। इनमें चीन, फ्रांस, इटली, दक्षिण कोरिया को शामिल किया गया है। इतना ही नहीं, पुरुषों में कोरोना के कारण महिलाओं की तुलना में 50% मौत का आंकड़ा ज्यादा है।

एक हालिया शोध की माने तो महिलाओं में कोरोना 4 दिन में खत्म हो जाता है जबकि पुरुषों में यह 6 से 8 दिन का समय लेता है। इसका कारण है पुरुषों की आदतें। जिसमें स्मोकिंग, वीक इम्युनिटी सिस्टम, लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारी, ACE2 प्रोटीन और उनकी साफ़-सफाई से जुड़ी आदतें जिम्मेदार हैं।

कोरोना से जंग: क्लोरीन डाइऑक्साइड केमिकल का कोरोना इलाज के लिए इस्तेमाल करना खतरनाक

स्मोकिंग
धूम्रपान की आदत के कारण पुरुषों के फेफड़ों पर बुरा प्रभाव पड़ता है और अगर ऐसे लोगों को कोरोना हो जाए तो उनके फेफड़े दोहरी मार सहते हैं। ये व्यक्ति को बेहद बीमार बना देता है।

सावधान! वापस लौट रहा है कोरोना, भारत में भी मिले दोबारा कोरोना पॉजिटिव केस

ACE2 प्रोटीन
एसीई2 प्रोटीन पुरुषों में अधिक पाया जाता है। यह प्रोटीन फेफड़ों, हृदय और आंतों में पाया जाता है लेकिन इसकी सबसे ज्यादा मात्रा वृषण-वीर्य कोष (टेस्टिस) में पाई जाती है। जबकि महिलाओं के अंडाशय (ओवरी) में यह बेहद कम मात्रा में पाया जाता है। कोरोना होने पर पुरुषों का प्रोटीन वायरस को आकर्षित करता है और वो उसमें जा चिपकता है। वैसे भी यह उन्ही कोशिकाओं से चिपकता है जो प्रोटीन छोडती हैं।

कोरोना से जंग: अफगानिस्तान की लड़कियां मोटर पार्ट्स से बना रही हैं सस्ता वेंटिलेटर

साफ-सफाई
इस बारे में जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक यूनिहिरो मैत्सुहिता कहते हैं कि दुनिया में महिलाओं की तुलना में पुरुष सफाई कम रखते हैं और इसलिए वो अधिक बीमार भी पड़ते हैं। पुरुष हाथ-धोने से भी बचते हैं।

लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां
इस बारे में एन्नल्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन जर्नल में एक शोध के अनुसार, पुरुषों में लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां जिनमें ब्लड प्रेशर, डायबिटीज जैसे मामले महिलाओं की तुलना में ज्यादा होती हैं। एक शोध के अनुसार, सार्स बीमारी के फैलने के दौरान भी पुरुषों की मौत अधिक हुई थी। वहीँ, डब्लूएचओ का कहना है कि महिलाएं पुरुषों के मुकाबले 6 से 8 साल ज्यादा जीती है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.