Saturday, Feb 27, 2021
-->
mewalal-chaudhary-may-resign-as-minister-djsgnt

मेवालाल चौधरी मंत्री पद से दे सकते हैं इस्तीफा, बुधवार को नीतीश कुमार से की मुलाकात

  • Updated on 11/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के कैबिनेट गठन के बाद लगातार सुर्खियां बटोर रहे शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी (Mewalal Choudhary) मंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं। महागठबंधन की ओर लगातार की जा रही फजीहत को देखते हुए मेवालाल चौधरी ये अहम फैसला ले सकते हैं। दरअसल, यह कयास तब और तेज होने लगी जब बुधवार को शाम मेवालाल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की है। उसके बाद राजनीतिक गलियारे में कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। मेवालाल बुधवार सुबह जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह से भी मिले थे।

ममता का पीएम मोदी से नेताजी की जयंती पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने का अनुरोध

लगातार हो रहा है विरोध
बिहार सरकार में जदयू कोटे से डॉ. मेवालाल चौधरी को मंत्री बनाये जाने को लेकर मुख्य विपक्षी दल राजद सहित विभिन्न दलों ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरा और मंत्री को बर्खास्त करने की मांग की जिन्हें पूर्व में भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर पार्टी से निलंबित भी किया गया था। राजद नेता तेजस्वी यादव ने सवाल किया कि असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति में आरोपी चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या भ्रष्टाचार करने का ईनाम एवं लूटने की खुली छूट प्रदान की है?

केजरीवाल ने कोरोना की मौजूदा स्थिति को लेकर बुलाई सर्वदलीय बैठक

तेजस्वी यादव ने भी साधा निशाना
तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर आरोप लगाया, ‘भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में भगौडे आरोपी को शिक्षा मंत्री बना दिया।’ उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘कुर्सी की ख़ातिर अपराध, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता पर मुख्यमंत्री जी प्रवचन जारी रखेंगे।’ राजद नेता ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति और भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के गंभीर मामलों में भारतीय दंड संहित की धारा 409,420,467, 468,471 और 120ब के तहत आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या भ्रष्टाचार करने का ईनाम एवं लूटने की खुली छूट प्रदान की है?

अवमानना कार्यवाही के खिलाफ महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट  

राजद ने किया ट्वीट
इससे पहले राजद ने आधिकारिक ट्वीट में आरोप लगाया कि तेजस्वी जी पर फ़र्ज़ी केस करवा कर इस्तीफ़ा माँग रहे थे और यहाँ खुद एक भ्रष्टाचारी मेवालाल को मंत्री बना रहे है। गौरतलब है कि नवनिर्वाचित जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी ने राज्य की तारापुर विधानसभा सीट से जीत दर्ज की है। उन्हें पहली बार नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। राजनीति में प्रवेश से पहले मेवालाल भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.