Wednesday, Jan 27, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 27

Last Updated: Wed Jan 27 2021 10:40 AM

corona virus

Total Cases

10,690,279

Recovered

10,358,328

Deaths

153,751

  • INDIA10,690,279
  • MAHARASTRA2,009,106
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA936,051
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU834,740
  • NEW DELHI633,924
  • UTTAR PRADESH598,713
  • WEST BENGAL568,103
  • ODISHA334,300
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,485
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH296,326
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA267,203
  • BIHAR259,766
  • GUJARAT258,687
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,976
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,930
  • JAMMU & KASHMIR123,946
  • UTTARAKHAND95,640
  • HIMACHAL PRADESH57,210
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM6,068
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,993
  • MIZORAM4,351
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,377
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
military rebels hostage to president prime minister in mali forced to resign at gunpoint prshnt

माली में सैन्य विद्रोहियों ने राष्ट्रपति-पीएम को बनाया बंधक, बंदूक की नोक पर जबरन लिया इस्तीफा

  • Updated on 8/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। माली (Mali) के राष्ट्रपति इब्राहिम बाउबकर कीता (Ibrahim Boubacar Keïta) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। माली में बढ़ते सैन्य विद्रोह के बाद उन्होंने यह फैसला लिया। वहीं बताया जा रहा है कि माली में सैनिकों ने राष्ट्रपति को बंदूक की नोक पर हिरासत में ले लिया था और इसी के बाद उन्हें मजबूरन इस्तीफा देना पड़ा।

कोरोना संकट में यूनिवर्सिटी परीक्षाओं को लेकर UGC ने सुप्रीम कोर्ट में रखा अपना पक्ष

बंदूक की नोक पर राष्ट्रपति को हिरासत में लिया
दरअसल माली में सैन्य विद्रोह के बाद मंगलवार को ही तख्तापलट के आसार दिख रहे थे, विद्रोही सैनिकों ने राजधानी से कई वरिष्ठ नागरिक और सैन्य अधिकारियों को बंधक बना लिया और अपने ठिकानों पर ले गए। इसके अलावा विद्रोही सैनिकों ने राष्ट्रपति भवन का घेराव किया और फिर राष्ट्रपति को बंदूक की नोक पर हिरासत में ले लिया और प्रधानमंत्री को भी मंगलवार शाम बंधक बना लिया गया।

पायलटों ने सेवाएं खत्म करने को कोर्ट में दी चुनौती, एअर इंडिया ने दी सफाई

सेंट्रल एक्वायर पर जश्न का माहौल
देश में राष्ट्रपति को हिरासत में लिए जाने के बाद और सैन्य विद्रोह के खबर के बाद सरकार विरोधी सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आए और राजधानी के सेंट्रल एक्वायर पर एक जश्न का माहौल बन गया और सभी ने कहा कि यही सही वक्त है जब सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए।

देश में रक्षा सूत्रों ने भी सैन्य विद्रोह की पुष्टि की है वहीं अभी तक इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि मिली के किन और कितने अधिकारियों को बंधक बनाया गया है।

फेसबुक प्रकरण को लेकर अंखी दास समेत 3 लोगों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, केस दर्ज

2012 में भी हुया था तख्तापलट
माली में हो रहे विद्रोह को लेकर अभी स्पष्ट नहीं है कि इसमें कितने सैनिक शामिल थे, इसके अलावा सेना के प्रवक्ता ने राजधानी से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सेना के अड्डे पर गोलीबारी की पुष्टि की है, लेकिन इससे अधिक कोई जानकारी नहीं मिल पाया है। इससे पहले 2012 में भी कट्टी बेस पर विद्रोह के कारण तत्कालीन राष्ट्रपति अमादौ तौमानी तौरे को हटना पड़ा था।

comments

.
.
.
.
.