Tuesday, Nov 30, 2021
-->
minister tomar say most farmers unions across country in support of new agricultural laws rkdsnt

मंत्री तोमर बोले- देश भर के ज्यादातर किसान और यूनियन नए कृषि कानूनों के समर्थन में

  • Updated on 10/24/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने रविवार को कहा कि देश भर के अधिकांश किसान एवं किसान यूनियन केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों के समर्थन में खड़े हैं और कुछ ही लोगों को इस मामले में मतभेद है। मंत्री ने कहा कि वे जो भी प्रस्ताव लेकर आएंगे, उस पर केंद्र सरकार चर्चा जरूर करेगी। 

अमरिंदर की तरह चन्नी ने भी किसानों के लिए कुछ नहीं किया : AAP

तोमर ने खंडवा लोकसभा के ग्राम गुड़ीखेड़ा और पंधाना में चुनावी सभा में भाग लेने जाते वक्त एक सवाल के जवाब में मीडिया से कहा, ‘‘तीनों कृषि कानून, किसानों के भले के लिए लाये गये हैं और देश भर के अधिकांश किसान इन कृषि कानूनों के समर्थन में खड़े हैं। अधिकतर यूनियन भी इन कानूनों के समर्थन में खड़े हैं।’’ 

उर्वरक की किल्लत को लेकर भाजपा सरकार पर बरसे अखिलेश, बोले हाशिये पर किसान

उन्होंने आगे कहा, ‘‘कुछ लोगों को इस मामले में मतभेद है। उनसे भी हमने संवेदनशीलता के साथ चर्चा की है और आने वाले कल में जब भी वे चाहेंगे और प्रस्ताव लेकर आएंगे तो सरकार उनके प्रस्तावों पर चर्चा जरूर करेगी।’’  डीएपी खाद की कमी की चर्चा पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में तोमर ने कहा, ‘‘सामान्य तौर पर डीएपी उर्वरक की थोड़ी कमी है, क्योंकि हम डीएपी को आयात करते हैं और उसके भाव भी बढ़े हैं।’’  

NCB अधिकारी वानखेड़े के बचाव में उतरे केंद्रीय मंत्री आठवले

उन्होंने कहा कि पिछले सीजन में जब डीएपी के भाव बढ़े थे तो एक बैग पर 1200 रूपये सब्सिडी देने का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने निर्णय लिया था, जिससे किसानों पर भार न पड़े। तोमर ने बताया कि अभी फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डीएपी खाद की कीमतों में वृद्धि हुई है और 1650 रुपये प्रति बैग डीएपी पर सब्सिडी देने का निर्णय हुआ है। 

राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने फिर बोला मोदी सरकार पर हमला, अंबानी का भी किया जिक्र

उन्होंने कहा, ‘‘डीएपी को मंगाया जा रहा है और कोशिश की जा रही है कि इसकी सप्लाई ठीक से की जाये।’’  तोमर ने कहा, ‘‘मैं आपके माध्यम से किसानों से आग्रह करना चाहता हूं कि डीएपी आ रहा है और डीएपी मिलेगा। लेकिन हम सब लोगों को जो अन्य विकल्प हैं, उन विकल्पों का भी उपयोग करते रहना चाहिए।’’

गवाह का दावा : एनसीबी अधिकारी ने आर्यन खान की रिहाई के लिए मांगे 25 करोड़


 

comments

.
.
.
.
.