बजट को लेकर सोशल मीडिया पर देखने को मिलीं लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं

  • Updated on 2/1/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मोदी सरकार ने अपना अंतिम बजट पेश कर दिया है। भाजपा जहां इस बजट पर अपनी पीठ थपथपाते हुए नहीं थक रही है, वहीं बजट को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही हैं। आइए आपको इन प्रतिक्रियाओं से अवगत कराते हैं......

एक सोशल मीडिया यूजर ने अपने ट्विटर हैंडल @_LogicalIndian_नाम के यूजर ने लिखा- मोदी समर्थक मेज पीट रहे हैं....मोदी विरोधी छाती...@marspryj ने लिखा कि मोदी और उनके लोग मेज को तबले के माफिक पीट रहे हैं...और विपक्ष के लोग अपनी छाती पीट रहे हैं।

बजट पर मायावती की तीखी प्रतिक्रिया, सिर्फ वादों से नहीं बदल सकती देश की तस्वीर

@alok_vicky ने लिखा कि मोदी जी तो गजब मूड में हैं। मेज थपथपा के तोड़ ना दें। वहीं, सोशल मीडिया पर एक तबके ने मोदी सरकार के बजट 2019 की सराहना की है, वहीं कई लोगों ने इसे खोखला वाला बताया है।

लोगों ने इस बजट को लोकसभा चुनावों से भी जोड़ा और इस बजट को कोरा वादा करार दिया, वही कुछ लोगों ने मोदी सरकार के इस बजट की खासी तारीफ की। एक और सोशल मीडिया यूजर @Jitendr45056719 ने लिखा, पीयूष गोयल ने अंतिम बॉल पर मारा छक्का, विपक्ष रह गया हक्का-बक्का....

एक अन्य यूजर रवि राज(@globalsrbxr) ने लिखा, आम बजट 2019 ऐतिहासिक है। आजादी के बाद का सबसे लोकप्रिय बजट पेश करने के लिए मोदी सरकार को बधाई।

सरकार ने अंतरिम बजट में महिला सुरक्षा और सशक्तिकरण मिशन के लिए पास किए 1330 करोड़ रुपए

@ArunYadav_INC ने लिखा- न काला धन आया न 15 लाख खाते में आए, न ही बदले दस सर आए.... बस ये चुनावी बहार है बजट के रूप में बाद में कहेंगे कि चुनावी जुमले तो परोस दिये जाते हैं...

@ChoupalLalit नामक ट्विटर हैंडल से लिखा गया-  60 साल के बाद ऐसा बजट है। मैं मोदी जी को यही कहूंगा कि गरीबों के लिए बहुत अच्छी सोच है। किसान के लिए भी, मीडियम क्लास के लिए भी, उनको मैं धन्यवाद देता हूं। वहीं @LakheraArun ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा- सेना, किसान और मध्यम वर्ग के लिए ऐतिहासिक बजट। राहुल फेल और विपक्ष का खत्म खेल।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.