Friday, May 27, 2022
-->
modi bjp govt all clear air india debt liabilities before transfer to tata sons sbi loan ready rkdsnt

सरकार ने TATA को हस्तांतरण से पहले Air India के करोड़ों के कर्ज, देनदारियां भी चुकाईं

  • Updated on 1/27/2022


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार ने एयर इंडिया को टाटा समूह को सौंपने से पहले एआईएएचएल में ‘रखे गए’ 61,000 करोड़ रुपये के पुराने कर्ज और अन्य देनदारियों का निपटारा कर दिया है। एआईएएचएल के पास एयरलाइन की शेष संपत्तियां और देनदारियां हैं। एक शीर्ष अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। विमानन कंपनी पर 31 अगस्त, 2021 तक कुल 61,562 करोड़ रुपये का कर्ज था। इसमें से टाटा समूह ने 15,300 करोड़ रुपये का कर्ज अपने ऊपर ले लिया, और बाकी 75 प्रतिशत या लगभग 46,000 करोड़ रुपये एक विशेष उद्देश्यीय कंपनी एआई एसेट होल्डिंग लिमिटेड (एआईएएचएल) को हस्तांतरित कर दिया गया। 

कच्चा तेल 90 डॉलर के करीब, लेकिन रिकॉर्ड 83 दिन से नहीं बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

 

एआईएएचएल के पास एयर इंडिया की अन्य परिसंपत्तियां जैसे होटल कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एचसीआईएल) में हिस्सेदारी, पेंटिंग और कलाकृतियां तथा अचल संपत्तियां भी हैं। निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने कहा कि एयर इंडिया के बकाया और देनदारियों को चुकाने को संसद ने पिछले महीने एआईएएचएल में इक्विटी निवेश के लिए 62,057 करोड़ रुपये की मंजूरी दी थी। दीपम ने एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया को पूरा किया। 

एयर इंडिया को लेकर उत्साहित टाटा संस के अध्यक्ष ने पीएम मोदी से की मुलाकात

उन्होंने कहा कि मोटे तौर पर लगभग 61,131 करोड़ रुपये का इस्तेमाल पूरे कर्ज और अन्य देनदारियों, जैसे तेल कंपनियों का ईंधन बकाया, को चुकाने के लिए किया गया। उन्होंने कहा कि कर्ज और अन्य देनदारियों पर ब्याज बहुत अधिक था, इसलिए कर्ज चुकाने का फैसला किया गया। पांडेय ने कहा, ‘‘सरकार के अतिरिक्त कर्ज और अतिरिक्त देनदारियों के लिए लगभग 61,131 करोड़ रुपये को मंजूरी दी गई।’’ उन्होंने कहा कि सरकार पर जो भी बकाया था, उसे बाद में भुगतान करने के बजाय सबकुछ चुका दिया गया। उन्होंने कहा, ‘‘हमने पाया कि इसपर काफी ब्याज लग रहा था। इसे बनाए रखना और बाद में भुगतान करना उचित नहीं था।’’      

कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के CMD पार्थसारथी, CFO कृष्णा हरि को ED ने किया गिरफ्तार

SBI नेतृत्व में बैंकों का गठजोड़ टाटा को कर्ज देने को राजी 
भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में ऋणदाताओं का एक गठजोड़ घाटे में चल रही विमानन कंपनी एयर इंडिया के सुचारू परिचालन के लिए टाटा समूह को ऋण प्रदान करने पर सहमत हो गया है। टाटा समूह ने पिछले साल अक्टूबर में एयर इंडिया एक्सप्रेस के साथ एयर इंडिया और एआईएसएटीएस में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने के लिए बोली जीती थी। समूह ने आज विमानन कंपनी का औपचारिक रूप से अधिग्रहण पूरा कर लिया। सूत्रों ने बताया कि एसबीआई के नेतृत्व वाला गठजोड़ एयर इंडिया की आवश्यकताओं के अनुसार मियादी और कार्यशील पूंजी ऋण दोनों देने पर सहमत हो गया है। 

अमित शाह के बाद राजनाथ जाट समुदाय को लुभाने में जुटे, बोले- चरण सिंह मेरे आदर्श

सूत्रों के अनुसार पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया सहित सभी बड़े ऋणदाता इस गठजोड़ का हिस्सा हैं। वही बैंकों का कहना है कि टैलेस को निश्चित अवधि के लिए ऋण से एयर इंडिया की उच्च लागत वाली उधारी को समाप्त करने में मदद मिलेगी। हालांकि, बैंकों द्वारा दिए जाने वाले ऋण की राशि का फिलहाल पता नहीं चला है। गौरतलब है कि टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टैलेस प्राइवेट लिमिटेड ने आठ अक्टूबर, 2021 को कर्ज में डूबी एयर इंडिया के अधिग्रहण की 18,000 करोड़ रुपये में बोली जीती थी।     

यूपी चुनाव : बसपा ने जारी की 53 और प्रत्याशियों की सूची, करहल से कुलदीप को उतारा

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.