Thursday, Apr 15, 2021
-->
modi bjp govt implement interest waiver on bank loan emi earliest says supreme court rkdsnt

बैंक लोन ईएमआई पर ब्याज माफी को जल्द से जल्द लागू करे सरकार : सुप्रीम कोर्ट

  • Updated on 10/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर आरबीआई (RBI) की ऋण स्थगन योजना के तहत दो करोड़ रुपये तक के कर्जदारों के लिये ब्याज माफी पर केन्द्र को जल्द से जल्द अमल करना चाहिए। न्यायालय ने कहा कि आम आदमी की दिवाली सरकार के हाथ में है। शीर्ष अदालत ने केन्द्र से जानना चाहा कि क्या ऋण स्थगन की अवधि के दौरान कर्जदारों के दो करोड़ रुपये तक के कर्ज पर ब्याज माफी का लाभ आम आदमी तक पहुंचेगा। 

GDP मामले में भारत से आगे बांग्लादेश, TMC का मोदी सरकार पर कटाक्ष

न्यायालय ने टिप्पणी की कि उसकी ङ्क्षचता इस बात को लेकर है कि ब्याज माफी का लाभ कर्जदारों को कैसे दिया जायेगा। न्यायालय ने कहा कि केन्द्र ने आम आदमी की स्थिति को ध्यान में रखते हुये ‘स्वागत योग्य निर्णय’ लिया है, लेकिन इस संबंध में प्राधिकारियों ने अभी तक कोई आदेश जारी नहीं किया है। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एम आर शाह की पीठ ने इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा, ‘‘इस मामले में कुछ ठोस करना होगा। दो करोड़ रुपये तक के कर्जदारों को ब्याज का लाभ देने पर यथाशीघ्र अमल होना चाहिए।’’ 

धर्मनिरपेक्षता का ‘‘मजाक’’ उड़ाने पर माकपा ने की राज्यपाल कोश्यारी को हटाने की मांग

शीर्ष अदालत ने इस मामले को दो नवंबर के लिये सूचीबद्ध करते हुये केन्द्र और बैंकों की ओर से पेश अधिवक्ताओं से कहा कि ‘अब दिवाली आपके हाथ में है।’’ केंद्र सरकार ने हाल ही में न्यायालय को सूचित किया था कि छह महीने के लिये ऋण की किस्त स्थगन सुविधा लेने वाले दो करोड़ रुपये तक के कर्जदारों के चक्रवृद्धि ब्याज को माफ करने का फैसला किया है। केन्द्र ने इसके साथ ही यह भी स्पष्ट किया था कि अब तक घोषित किए जा चुके राजकोषीय राहत उपायों से आगे बढ़कर किसी भी घोषणा से अर्थव्यवस्था को ‘‘नुकसान’’ पहुंच सकता है और हो सकता है कि बैंक इन ‘‘अपरिहार्य वित्तीय बाधाओं’’ का सामना न कर सकें। 

 शरद यादव की बेटी ने थामा हाथ, बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस करेगी कमाल!

पीठ ने सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता से कहा, ‘‘आम आदमी की परेशानियों के संदर्भ में सरकार ने स्वागत योग्य फैसला लिया है, लेकिन आपने इस बारे में अभी तक किसी को कोई आदेश जारी नहीं किया है। आपने सिर्फ हलफनामा ही दिया है।’’ पीठ ने कहा, ‘‘अब हमारी ङ्क्षचता यह है कि ब्याज माफी का यह लाभ कैसे दिया जायेगा। हम सिर्फ यही जानना चाहते हैं कि क्या कर्ज पर ब्याज माफी नीचे तक गयी है या नहीं।’’ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सुनवाई के दौरान मेहता ने पीठ को सूचित किया कि सरकार ने फैसला लिया है और उसने बहुत बड़ा भार वहन किया है।

Bihar Elections : भाजपा ने जारी की तीसरे चरण के लिए उम्‍मीदवारों की सूची

मेहता ने कहा, ‘‘जब केन्द्र सरकार ने हलफनामे पर कहा है कि इसे लागू किया जायेगा तो इस बारे में किसी प्रकार की आशंका नहीं होनी चाहिए। शीर्ष अदालत 27 मार्च को रिजर्व बैंक द्वारा जारी अधिसूचना में ऋण स्थगन की अवधि के दौरान कर्ज की राशि पर ब्याज वसूलने के हिस्से को अवैध घोषित करने सहित कई मुद्दों को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी। 

आजम खान, उनकी पत्नी और बेटे को हाई कोर्ट से मिली बड़ी राहत

न्यायालय ने पांच अक्टूबर को केन्द्र और रिजर्व बैंक से कहा था कि वे कोविड-19 की वजह से विभिन्न क्षेत्रों पर पड़े दबाव के मद्देनजर कर्ज पुनर्गठन के बारे में के वी कामत समिति की सिफारिशों और कर्ज की किस्त स्थगन के मुद्दे पर उनके द्वारा जारी अधिसूचनाएं और परिपत्र उसके समक्ष पेश करें। इसके बाद, रिजर्व बैंक ने 10 अक्टूबर को न्यायालय में दायर हलफनामे में कहा था कि छह महीने की अवधि से आगे किस्त स्थगन को बढ़ाने से ‘‘समग्र ऋण अनुशासन के खत्म होने’’ की स्थिति बन सकती है और इस वजह से अर्थव्यवस्था में ऋण निर्माण की प्रक्रिया पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.