Thursday, Jan 27, 2022
-->
modi cabinet approves bonus for 11 lakh railway workers rkdsnt

मोदी कैबिनेट ने 11 लाख रेलकर्मियों के लिए बोनस को दी मंजूरी

  • Updated on 10/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को योग्य गैर-राजपत्रित रेल कर्मचारियों के लिए 78 दिन के वेतन के बराबर उत्पादकता से जुड़े बोनस (पीएलबी) को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने संवाददाताओं को यह जानकारी दी।

RSS प्रमुख के इशारे पर देश को आर्थिक गुलामी की ओर ले जा रही है मोदी सरकार : कांग्रेस

उन्होंने बताया, ‘‘ रेल कर्मचारियों को 2020-21 के लिए 78 दिन के उत्पादकता आधारित बोनस के भुगतान का वित्तीय भार 1984.73 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। इस फैसले से रेलवे के 11.56 लाख गैर-राजपत्रित र्किमयों को लाभ होगा। ’’ 

लखीमपुर खीरी घटना : जयंत चौधरी बोले- सच को दबा रही है योगी सरकार, लगाया जाए राष्ट्रपति शासन

सरकारी बयान में कहा गया है कि इनमें आरपीएफ/आरपीएसएफ कर्मी शामिल नहीं होंगे। इसमें कहा गया है कि पात्र गैर- राजपत्रित रेल कर्मचारियों को पीएलबी के भुगतान के लिए निर्धारित वेतन गणना की सीमा 7,000 रुपये प्रतिमाह है। प्रति पात्र रेल कर्मचारी के लिए 78 दिन की अधिकतम देय राशि 17,951 रुपये है।      बयान के अनुसार, पात्र रेल कर्मचारियों को पीएलबी का भुगतान प्रत्येक वर्ष दशहरा/पूजा की छुट्टियों से पहले किया जाता है। केंद्रीय मंत्रिमंडल के इस निर्णय को इस साल की छुट्टियों से पहले ही लागू किया जाएगा। 

लखीमपुर घटना : प्रियंका गांधी ने फोन के जरिए मारे गए किसानों के परिजनों से संवेदना प्रकट की 

बयान में कहा गया है, ‘‘ वित्त वर्ष 2010-11 से 2019-20 के लिए 78 दिन के वेतन की उत्पादकता आधारित बोनस की राशि का भुगतान किया गया। वर्ष 2020-21 के लिए भी 78 दिन के वेतन के बराबर पीएलबी राशि का भुगतान किया जाएगा, जिससे कर्मचारी रेलवे के कार्य निष्पादन में सुधार की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित होंगे।’’ गौरतलब है कि रेलवे में उत्पादकता से जुड़ा बोनस पूरे देश में फैले सभी गैर-राजपत्रित रेलवे कर्मचारियों (आरपीएफ/आरपीएसएफ र्किमयों को छोड़कर) को कवर करता है। 

गुजरात दंगा : मोदी को SIT की क्लीन चिट के खिलाफ जाकिया की याचिका पर SC करेगा सुनवाई

comments

.
.
.
.
.