Sunday, Apr 18, 2021
-->
modi government vs twitter congress navjot singh sidhu tweeted pragnt

सरकार और Twitter की टकरार के बीच सिद्धू ने किया ट्वीट, कैसे लिखूं हाथ तानाशाह की पकड़ में है

  • Updated on 2/11/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। किसान आंदोलन (Farmers Protest) के बारे में दुष्प्रचार और भड़काऊ बातें फैला रहे एकाउंट के खिलाफ ट्विटर (Twitter) के नरम रवैये से भारत सरकार ने कड़ी आपत्ति जताई है। सरकार ने ट्विटर से फैक्स अकाउंट्स को डिलीट और उनपर सख्त कार्रवाई करने को कहा है। अब इस मामले में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट कर लिखा, 'क्या लिखूं, कलम जकड़ में हैं..कैसे लिखूं, हाथ तानाशाह की पकड़ में है। #TwitterCensorship' 

CM ममता पर दिलीप घोष का निशाना, कहा- वो अपने आप को टाइगर बता रहीं, उनका हाल बिल्ली जैसा

सरकार का कड़ा रूख
बता दें कि सरकार और ट्विटर के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। सरकार ने किसान आंदोलन के बारे में दुष्प्रचार और भड़काऊ बातें फैला रहे एकाउंट और हैशटैग के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने में ट्विटर (Twitter) के देरी करने पर 'कड़ी नाराजगी' प्रकट की। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि कंपनी के अपने भले ही कोई नियम हों, लेकिन उसे देश के कानूनों का पालन करना ही चाहिए। ट्विटर ने 500 से अधिक एकाउंट निलंबित किये हैं। हालांकि उसने अभिव्यक्ति की आजादी को अक्षुण्ण रखने की जरूरत का हवाला देते हुए 'खबरिया निकायों, पत्रकारों, कार्यकर्ताओं एवं नेताओं के एकाउंट पर रोक लगाने से इनकार किया है।'

उत्तराखंड त्रासदी: चमोली में 5वें दिन रेस्क्यू जारी, 200 लोग अभी भी लापता

कानूनों का पालन करें ट्विटर
आईटी सचिव और ट्विटर के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच डिजिटल संवाद के दौरान सरकार ने इस मंच से कहा कि भारत में काम कर रहे कारोबारी निकाय के रूप में उसे कानूनों एवं लोकतांत्रिक संस्थानों का सम्मान करना ही चाहिए और देश में सद्भाव बिगाड़ने और अशांति फैलाने से जुड़े अभियानों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। सचिव ने किसान आंदोलन के संदर्भ में भड़काऊ बातों पर कार्रवाई करने से जुड़े सरकारी आदेशों का पालन नहीं करने पर ट्विटर की आलोचना की।

पीएम मोदी ने एक बार फिर किसानों को बातचीत का दिया न्योता,कहा- मिलकर करेंगे समाधान

500 से ज्यादा अकाउंट पर लगी रोक
वहीं ट्विटर ने बुधवार को कहा कि किसानों के प्रदर्शन को लेकर भ्रामक और भड़काऊ विषयवस्तु का प्रसार रोकने के सरकार के निर्देश के तहत उसने 500 से ज्यादा अकाउंट पर रोक लगा दी है और कुछ को ब्लॉक कर दिया है। ट्विटर ने एक ब्लॉगपोस्ट में कहा कि भारत सरकार द्वारा देश में कुछ अकाउंट को बंद करने के निर्देश के तहत उसने कुछ अकाउंट पर रोक लगाई है।

किसान आंदोलन: 500 अकाउंट्स सस्पेंड, पत्रकार/पॉलिटिशियन पर ट्विटर ने नहीं लिया एक्शन

ट्विटर के कदम को बताया 'असामान्य' कदम
नागरिक समाज के कार्यकर्ताओं, राजनीतिज्ञों एवं मीडिया के ट्विटर हैंडल को ब्लॉक नहीं किया है क्योंकि ऐसा करने से अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का उल्लंघन होगा। हालांकि, सरकार ने मुद्दे पर सूचना प्रौद्योगिकी सचिव के साथ वार्ता के पहले ब्लॉगपोस्ट प्रकाशित करने के ट्विटर के कदम को 'असामान्य' कदम बताया। सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने देश में विकसित सोशल नेटवर्किंग साइट 'कू' पर अपने जवाब में कहा, 'सरकार के साथ बैठक के लिए ट्विटर के अनुरोध पर सूचना और प्रोद्यौगिकी, सचिव ट्विटर के वरिष्ठ प्रबंधकों के साथ बातचीत करने वाले थे। इस आलोक में वार्ता के पहले ब्लॉगपोस्ट प्रकाशित करना असामान्य कदम है।'

ये भी पढ़ें:

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.