Tuesday, Nov 30, 2021
-->
modi minister athawale came rescue of ncb officials wankhede rkdsnt

NCB अधिकारी वानखेड़े के बचाव में उतरे केंद्रीय मंत्री आठवले

  • Updated on 10/24/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने रविवार को स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े पर लगाए गए महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के आरोपों को ‘आधारहीन’ और ‘शरारतपूर्ण’ करार दिया तथा कहा कि वानखेड़े ने कुछ भी गलत नहीं किया है।

गवाह का दावा : एनसीबी अधिकारी ने आर्यन खान की रिहाई के लिए मांगे 25 करोड़


आठवले ने कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करे कि वानखेड़े को किसी तरह की हानि नहीं पहुंचे और उनकी जान को कोई खतरा नहीं हो। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता नवाब मलिक पिछले कुछ दिनों से लगातार एनसीबी और वानखेड़े को निशाना बना रहे हैं।

राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने फिर बोला मोदी सरकार पर हमला, अंबानी का भी किया जिक्र

मलिक ने हाल में वानखेड़े पर कई तरह के आरोप लगाए हैं। वानखेड़े तीन अक्टूबर को मुंबई तट के पास क्रूज जहाज पर की गई छापेमारी के बाद कथित तौर पर बरामद किये गये मादक पदार्थ मामले की जांच का नेतृत्व कर रहे हैं, जिसमें बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को भी गिरफ्तार किया गया है।   

नवाब मलिक ने NCB अफसर समीर वानखेड़े को चेताया, कहा- सालभर में आपकी नौकरी जाएगी

  मुंबई में प्रेसवार्ता के दौरान आठवले ने आरोप लगाया कि वानखेड़े को निशाना बनाते हुए मलिक इस मामले को धार्मिक और जातिवाद का रंग देने का प्रयास कर रहे हैं।  सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण राज्य मंत्री आठवले ने कहा,‘’राज्य सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वानखेड़े की जान को खतरा नहीं हो।‘‘  

अखिलेश यादव का कटाक्ष, कहा- हमेशा जश्न मनाने में ही मगन रहती है भाजपा

    मंत्री ने दावा किया कि एनसीबी के पास आर्यन खान के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य हैं इसलिए उन्हें जमानत नहीं दी गई।      उन्होंने कहा,‘’वानखेड़े ने कुछ भी गलत नहीं किया है। वह और एनसीबी युवाओं को नशे की लत से बचाने के लिए काम कर रहे हैं। इसका समर्थन करने के बजाय मलिक, वानखेड़े को इसलिए निशाना बना रहे हैं कि उनके दामाद समीर खान के खिलाफ कार्रवाई की गई है।‘‘

पेट्रोल-डीजल को लेकर राहुल गांधी बोले- हमारी जनता के साथ घिनौना मजाक कर रही है केंद्र सरकार

comments

.
.
.
.
.