Tuesday, Oct 19, 2021
-->
moily-took-the-side-of-inclusion-of-prashant-kishor-in-congress-split-in-g-23

मोइली ने लिया प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल करने का पक्ष, जी-23 में पड़ी फूट

  • Updated on 9/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चुनाव रणनीतिकार का काम छोड़ एक बार फिर से सियासी पारी शुरू करने को आतुर प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल करने को लेकर पार्टी के असहमत नेताओं के समूह जी-23 में फूट पड़ती दिख रही है। सुधार के लिए प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल किए जाने का पक्ष लेते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता एम. वीरप्पा मोइली ने कहा कि इसका विरोध न पार्टी के हित में है और न ही देश हित में। बिना किसी का नाम लिए उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने जी-23 के नाम पर अपना हित साधा है।

प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को बताया हवाई दावों वाली सरकार

मोइली का नाम 23 नेताओं में शामिल है, जिन्होंने पिछले साल सोनिया गांधी को पत्र लिखकर संगठनात्मक बदलाव की मांग की थी। रविवार को एक बातचीत में मोइली ने कहा कि हममें से कुछ लोगों ने उस पत्र पर हस्ताक्षर केवल पार्टी के अंदर सुधारों के लिए और उसके पुनर्निर्माण के लिए किए थे, इसे बर्बाद करने के लिए नहीं। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी के नेतृत्व में सुधारों की शुरुआत होने के साथ ही जी-23 की कोई भूमिका नहीं रह गई और वह अब अप्रासंगिक हो गया है। मोइली ने कहा कि अगर कुछ नेता जी-23 के साथ कायम रहते हैं तो इसका मतलब है कि उनमें से कुछ का कांग्रेस पार्टी के खिलाफ काम करने का निहित स्वार्थ है, जो कि हम नहीं सोचते और असल में इसका विरोध करते हैं।

सीतारमण बोलीं- अर्थव्यवस्था की मजबूती के लिए टीकाकरण ही एकमात्र औषधि

मोइली ने कहा कि पार्टी में बड़ी सर्जरी, जिसकी जी-23 के नेताओं ने संगठन को पुनर्जीवित करने के लिए जरूरी बताया था, उस पर सोनिया गांधी पहले से ही विचार कर रही थीं। प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल किए जाने की कयासों को इसी सुधार प्रक्रिया हिस्सा बताते हुए मोइली ने कहा कि यह सही होगा कि वह कांग्रेस में शामिल हों और भीतर से सुधारों को लागू करें। मोइली ने कांग्रेस में प्रशांत किशोर के शामिल होने का विरोध कर रहे पार्टी के लोगों से ऐसा नहीं करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि ऐसा देश और कांग्रेस के लिए जरूरी है कि पार्टी में सुधार हो और कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मंशा भी यही है।

यूपी में विकास के विज्ञापन को लेकर घिरे सीएम योगी, विपक्षी दलों ने साधा निशाना

मोइली ने कहा कि प्रशांत किशोर साबित कर चुके हैं कि वह एक सफल रणनीति हैं। बाहर से काम करने के बजाय अगर वह पार्टी में शामिल होते हैं तो यह कांग्रेस के लिए काफी फायदेमंद होगा। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस इस देश की राजनीति का मुख्य आधार है। उन्होंने कांग्रेस की स्थिति गरीब जमींदारों की तरह बताने वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार की टिप्पणी पर उन्होंने कहा कि हम कभी-कभी हार सकते हैं लेकिन यह नहीं कहा जा सकता कि हम हमेशा के लिए हार जाएंगे। मोइली ने कहा कि पवार ने खुद स्वीकार किया है कि कांग्रेस कई राज्यों में सत्ता में एकमात्र पार्टी थी जो भाजपा को टक्कर दे सकती थी। मोइली ने कहा कि कांग्रेस इस देश की राजनीति की ताकत का आधार है। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.