Sunday, Jun 13, 2021
-->
money laundering court sent chanda kochhar husband deepak kochhar to ed custody rkdsnt

धन शोधन मामला : कोर्ट ने दीपक कोचर को ईडी की हिरासत में भेजा

  • Updated on 9/8/2020


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) चंदा कोचर के पति दीपक कोचर (Chanda Kochhar) को धन शोधन मामले में यहां की एक अदालत ने मंगलवार को 19 सितम्बर तक प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरासत में भेज दिया। आईसीआईसीआई-वीडियोकोन से जुड़े धन शोधन के मामले में धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के तहत सोमवार को ईडी ने दीपक कोचर (Deepak Kochhar) को गिरफ्तार किया था।

फिल्म 'बधाई हो' की अभिनेत्री सुरेखा सीकरी को हुआ ब्रेन स्ट्रोक, ICU में भर्ती

अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी इस मामले में हाल ही में एकत्र किए गए कुछ नए साक्ष्यों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए दीपक कोचर को हिरासत में लेकर पूछताछ करना चाहती है। धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत यह मामला पिछले साल जनवरी में दर्ज किया गया था।     जांच एजेंसी ने दीपक कोचर को विशेष पीएमएलए न्यायाधीश मिङ्क्षलद वी कुर्ताडिकर के समक्ष पेश किया, जिन्होंने उन्हें 19 सितंबर तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया। 

महाराष्ट्र : देवेंद्र फडणवीस को नहीं रास आई अभिनेत्री कंगना रनौत की टिप्पणी

रिमांड का अनुरोध करते हुए ईडी ने अदालत को बताया कि जांच में सामने आया है कि सात सितंबर 2009 को आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकोन इंटरनेशल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटिड (वीआईईएल) को 300 करोड़ रुपये के कर्का की मंजूरी दी थी। जब यह ऋण वीआईईएल को दिया गया तब दीपक कोचर की पत्नी चंदा कोचर बैंक की स्वीकृति समिति की प्रमुख थी। ईडी ने कहा कि तहकीकात में पता चला कि कर्का को मंजूरी मिलने के सिर्फ एक दिन बाद ही, वीआईईएल ने इसमें से 64 करोड़ रुपये नू पावर रिन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटिड (एनआरपीएल) को स्थानांतरित कर दिए। 

सुशांत परिवार के वकील ने रिया की FIR को लेकर मुंबई पुलिस पर उठाए सवाल

एनआरपीएल को पहले नू पॉवर रिन्यूएबल्स लिमिटिड (एनआरएल) के तौर पर जाना जाता था और यह दीपक कोचर की कंपनी है। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने अदालत को बताया कि दीपक कोचर जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत है, क्योंकि महत्वपूर्ण पहलू हैं जिनकी जांच किए जाने की जरूरत है। इन पहलुओं में उनकी कंपनी द्वारा प्राप्त धन और किस तरह से पैसा का लेन-देन हुआ, शामिल है। 

ड्रग मामला : रागिनी द्विवेदी के बाद कन्नड़ फिल्म अभिनेत्री संजना भी गिरफ्तार

दीपक कोचर के वकील विजय अग्रवाल ने उनकी रिमांड का विरोध करते हुए कहा कि उनके मुवक्किल करीब 12 बार जांच में शामिल हुए हैं और सभी दस्तावेज जमा कराएं हैं। वकील ने कहा, 'इसलिए यह हिरासत में लेकर पूछताछ का मामला नहीं है।' दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने और रिमांड दस्तावेजों को देखने के बाद न्यायाधीश ने कहा कि दीपक कोचर को हिरासत में लेकर पूछताछ करना 'जरूरी' है। 

 सुशांत मामला: गिरफ्तारी के बाद वकील मानशिंदे ने किया रिया चक्रवर्ती का बचाव

अदालत ने कहा कि यह एक आर्थिक अपराध है जिसमें कुछ अलग तरीके की जांच की जरूरत होती है, लिहाजा सभी दलीलों पर विचार करते हुए आरोपियों को ईडी की हिरासत में भेजा जाता है। चंदा कोचर और दीपक कोचर तथा वीडियोकॉन समूह के प्रवर्तक वेणुगोपाल धूत तथा अन्य के खिलाफ सीबीआई की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद ईडी ने अपना मामला दर्ज किया है। ईडी ने वीडियोकॉन समूह की कंपनियों को 1875 करोड़ रुपये के कर्ज को अवैध तरीके से मंजूरी देने के आरोप में चंदा कोचर और दीपक कोचर तथा उनकी कारोबारी संस्थाओं पर धनशोधन का आरोप लगाया है। 

BSNL के बाद SBI ने पेश की अपने कर्मियों के लिए स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना

comments

.
.
.
.
.