Wednesday, May 12, 2021
-->
moodys-investors-service-public-sector-banks-indian-economy-sohsnt

पीएसबी को अगले दो वर्षों में होगी 2.1 लाख करोड़ रुपये तक पूंजी की जरूरत: मूडीज

  • Updated on 8/22/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना महामारी (Corona epidemic) के चलते लागू हुए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद से देश को आर्थिक संकट का सामना करना पढ़ रहा है। अनलॉक (Unlock) प्रक्रिया के बाद भी हालात सुधरते नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में अब मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ( Moodys Investors Service) ने शुक्रवार को कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSB) को अगले दो वर्षों में 2.1 लाख करोड़ रुपये तक बाहरी पूंजी की जरूरत होगी और इस भरपाई के लिए सरकारी समर्थन सबसे अधिक भरोसेमंद स्रोत होगा।

एअर इंडिया के 14 यात्री कोरोना वायरस संक्रमित मिले : हांगकांग सरकार 

दो वर्षों के दौरान 2.1 लाख करोड़ रुपये की जरूरत
मूडीज के मुताबिक भारत के आर्थिक विकास में तेज गिरावट और कोरोना वायरस के प्रकोप से पीएसबी की परिसंपत्तियों की गुणवत्ता को कफी हद तक नुकसान होगा और ऋण लागत बढ़ने की आशंका अधिक रहेगी। मूडीज की उपाध्यक्ष और वरिष्ठ ऋण अधिकारी अल्का अंबरासू का कहना है कि, 'हमारा अनुमान है कि पीएसबी के कमजोर पूंजीगत भंडार, जो इस समय 1,900 अरब रुपये है, को देखते हुए उन्हें नुकसान की भरपाई के लिए अगले दो वर्षों के दौरान 2.1 लाख करोड़ रुपये तक बाहरी पूंजी की जरूरत होगी।'

सरकार ने और 6 एयरपोर्ट का Management प्राइवेट हाथों में दिया, CET कराएगी NRA

बैंकिंग प्रणाली में पीएसबी  की अहम भूमिका

उन्होंने आगे कहा कि भारत की बैंकिंग प्रणाली में पीएसबी का काफी अहम योगदान है, और ऐसे में उनकी किसी भी तरह की विफलता वित्तीय स्थिरता को खतरे में डाल सकती है। अंबरासू ने कहा, 'ऐसे में हम उम्मीद करते हैं कि सरकार का समर्थन आगे भी जारी रहेगा।' मूडीज ने ‘कोरोना वायरस के चलते बैंकों के पास एक बार फिर होगी पूंजी की कमी’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में कहा कि खासतौर से खुदरा और छोटे कारोबारी ऋणों के चलते परिसंपत्ति की गुणवत्ता बिगड़ जाएगी।

देश में 'बायकॉट चाइना' का माहौल और चीन के सरकारी बैंक ने खरीदी ICICI बैंक में हिस्सेदारी

देश में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

वहीं दूसरी ओर देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। यहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29,73,368 हो गई है। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 55,928 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की बात ये है कि 22,20,799  इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों की कुल संख्या 6,96,099 है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.