Monday, Aug 02, 2021
-->
more than 2 hours of talks between rajnath singh and china defense minister sohsnt

राजनाथ सिंह और चीन के रक्षा मंत्री के बीच हुई वार्ता, सीमा पर तनाव कम करने पर रहा जोर

  • Updated on 9/5/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत-चीन सीमा विवाद के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath singh) और चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंगही (wei fenghe) के बीच शुक्रवार को दो घंटे से अधिक समय तक बैठक हुई जिसमें पूर्वी लद्दाख में सीमा पर बढ़ रहे तनाव को कम करने पर जोर दिया गया। सरकारी सूत्रों ने यह जानकारी दी

वापस आएगा PUBG! भारत से बैन हटाने की गुजारिश करेगी ऐप की कंपनी टेंसेंट

सीमा विवाद पर पहली उच्च स्तरीय बैठक
पूर्वी लद्दाख में मई में सीमा पर हुए तनाव के बाद से दोनों ओर से यह पहली उच्च स्तरीय बैठक थी। इससे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल गतिरोध दूर करने के लिए चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ फोन पर बातचीत कर चुके हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बातचीत के दौरान सिंह ने पूर्वी लद्दाख में यथा स्थिति को बनाए रखने और सैनिकों को पीछे हटाने पर जोर दिया। रक्षा मंत्री सिंह और चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही के बीच यह बैठक दो घंटे 20 मिनट तक चली।'

बड़ी खबर ! ताइवान ने मार गिराया चीन का लड़ाकू विमान सुखोई- 35, देखें वीडियो

रूस की राजधानी मास्क में हुई बैठक
सूत्रों ने बताया कि भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने चीनी सेना के पैंगोंग झील के दक्षिण तट में यथास्थिति बदलने के नए प्रयासों पर कड़ी आपत्ति जताई और वार्ता के माध्यम से गतिरोध के समाधान पर जोर दिया। एक सूत्र ने कहा, 'दो रक्षा मंत्रियों के बीच बातचीत का केन्द्र लंबे समय से चले आ रहे सीमा गतिरोध को हल करने के तरीकों पर था।' रूस की राजधानी मास्को में एक प्रमुख होटल में रात करीब साढ़े नौ बजे वार्ता शुरू हुई।

चीन के खिलाफ ताइवान की बड़ी कार्रवाई! नए पासपोर्ट डिजाइन से हटाया 'रिपब्लिक ऑफ चाइना'

चीन के रक्षा मंत्री ने की थी बातचीत की पेशकश 
भारतीय प्रतिनिधिमंडल में रक्षा सचिव अजय कुमार और रूस में भारत के राजदूत डी बी वेंकटेश वर्मा भी थे। सूत्रों ने बताया कि चीन के रक्षा मंत्री ने बातचीत की पेशकश की थी। दोनों नेता एससीओ रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए मॉस्को में हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एससीओ में अपने संबोधन में कहा कि क्षेत्र में शांति और सुरक्षा के लिए विश्वास का माहौल, गैर-आक्रामकता, अंतरराष्ट्रीय नियमों के प्रति सम्मान तथा मतभेदों का शांतिपूर्ण समाधान जरूरी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.