Friday, Dec 03, 2021
-->
more than 21 crore people get vaccinated in india compared to other countries prshnt

भारत में 21 करोड़ से ज्यादा लोगों को लगी वैक्सीन, जानें अमेरिका-ब्राजील जैसे देशों के मुकाबले क्या ह

  • Updated on 5/30/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत में कोरोना के दूसरी लहर के दौरान वायरस को हराने के लिए वैक्सीनेशन प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है और ऐसे में अमेरिका के बाद भारत ऐसा दूसरा देश बन गया है जिसने वैक्सीनेशन में 21 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया। वहीं अगर जनसंख्या के स्तर पर देखा जाए तो वैक्सीनेशन के आंकड़े बताते हैं कि हम कई देशों से अभी भी पीछे हैं। जून से भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज होने की उम्मीद है। फिलहाल अन्य कई देशों से प्रतिशत के हिसाब से देश में टीकाकरण धीमा है। 

अमेरिका की बात करें तो यहां अबतक 29 करोड़ सात लाख वैक्सीनेशन की डोज लोगों की मिल चुकी है। ऐसे में यहां कुल 49 फीसदी लोगों को पहली डोज दी जा चुकी है वहीं 40 फीसदी को दूसरी डोज भी मिल चुकी है। इसके अलावा  यूके में अबतक 6 करोड़ 26 लाख वैक्सीजन की डोज दी गई है, वहीं 35 फीसदी लोगों को दोनों डोज दी जा चुकी है जबकि 57 फीसदी को पहली डोज मिली है।

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के लिए CM नीतीश का ऐलान- 18 साल की उम्र तक हर महीने देगी 1500

जर्मनी में 4 करोड़ 83 लाख को लगा वैक्सीन
जर्मनी में 4 करोड़ 83 लाख डोज लग चुकी है, यहां कुल 40 फीसदी आबादी को पहली डोज और 16 फीसदी को दोनों डोज मिल चुकी है। वहीं इटली में अबतक 3 करोड़ 29 लाख वैक्सीन की डोज लगी है। 36 फीसदी आबादी को पहली डोज और 19 फीसदी लोगों को दूसरी डोज लगी है। जबकि फ्रांस में 3 करोड़ 42 लाख डोज दी गई है। 35 फीसदी जनसंख्या को पहली डोज और 15 फीसदी को दोनों डोज दी गई है।

मोदी सरकार के 7 साल पूरे होने पर बोले नड्डा- PM के मार्गदर्शन में बना देश आत्मनिर्भर

WHO का भारत को सलाह
बता दें कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप अब कुछ कम होता नजर आ रहा है। दैनिक मामलों में कमी के साथ ही मौत का आंकड़ा जो हर दिन 4 हजार की संख्या को पार कर रहा था वो भी कुछ नीचे आने लगा है। हालांकि इस बीच कोरोना की तीसरी लहर पर चर्चा जोरों पर है। तीसरी लहर को बच्चों और युवाओं के लिए जानलेवा बताया जा रहा है। ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से भी भारत को सलाह दी गई है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा है कि  इस उछाल से सबक यह है कि हम किसी भी कीमत पर अपने  सुरक्षा उपायों को कम नहीं कर सकते।  हमें पहले उपलब्ध अवसर पर कोरोना वैक्सीन लेनी चाहिए। डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा की हालांकि हम अगले उछाल की भविष्यवाणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन हम इसे रोक सकते हैं, जो हमें अवश्य करना चाहिए। इस उछाल ने पहले से ही प्रभावित स्वास्थ्य सेवाओं पर भारी बोझ डाल दिया है। अब हम भारत के कुछ हिस्सों में एक उछाल तो कुछ हिस्सों में मामलों में गिरावट भी देख रहे हैं। स्थिति चिंता और चुनौती की बनी हुई है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.