Monday, Nov 18, 2019
more than 450 arrested before ayodhya case verdict

अयोध्या मामले पर फैसले से पहले 450 से अधिक गिरफ्तार, 12 हजार पर रखी जा रही नजर

  • Updated on 11/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई के बाद अब फैसले का इंतजार है। कोर्ट के प्रस्तावित फैसले को लेकर सरकार और प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है। इस संबंध में अब तक करीब 450 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और करीबन 12 हजार से ज्यादा उपद्रवियों पर नजर भी रखी जा रही है।

अयोध्या मामले पर बोलीं मायावती, कोर्ट के फैसले का हो सम्मान

अयोध्या में राम जन्म भूमि मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई के बाद अब प्रस्तावित फैसला कभी भी आ सकता है। फैसले से पहले सरकार और प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है। सूबे के पुलिस डीजीपी ओपी सिंह (O P Singh) ने एक इंटरव्यू में बताया कि किसी भी अप्रिय घटना को लेकर पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है।

अयोध्या मामले में जामिया के शिक्षकों ने की SC के फैसला का सम्मान करने की अपील

उन्होंने बताया कि 1659 लोगों के सोशल मीडिया (Social Media) अकाउंट पर भी नजर रखी जा रही है और जरुरत पड़ी तो इंटरनेट सेवाएं बंद भी की जा सकती हैं। उन्होंने कहा, पुलिस को आदेश दिया गया है कि किसी भी कीमत पर राज्य में शांति कायम रहनी चाहिए। साथ ही उन्होंने लोगों को किसी भी तरह की अफवाह से बचने की अपील भी की।

450 से अधिक लोगों को किया गया गिरफ्तार
राज्य में सामाजिक सौहार्द बरकरार रखने के लिए डीजीपी ने कहा, "12 हजार से अधिक उपद्रवियों पर नजर रखी जा रही है और अब तक इस संबंध में 450 से अधिक लोगों को जेल भेजा जा चुका है। सूबे में पूरी तरह से शांति बहाल रहे, इसके लिए हमने सबसे ज्यादा ध्यान सोशल मीडिया (Social Media) से फैलने वाली अफवाहों पर दिया है। शांति और सुरक्षा को लेकर हमने करीब 5800 शांतिवार्ताएं और सैकड़ों की संख्या में धर्मगुरुओं से मुलाकात की।" 

अयोध्या फैसले से पहले प्रशासन मुस्तैद, ड्रोन से की जा रही विशेष निगरानी

कभी भी आ सकता है फैसला
माना जा रहा है, 17 नवंबर से पहले फैसला कभी भी सुनाया जा सकता है। गौरतलब है कि 17 नवंबर को मुख्य न्यायाधीश सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इसलिए उनके सेवानिवृत्त से पहले फैसला आने की पूरी संभावना जताई जा रही है। पिछले माह 16 अक्टूबर को ही अयोध्या मामले पर रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 जजों की पीठ ने फैसला सुरक्षित रख लिया था।

comments

.
.
.
.
.