Sunday, Sep 26, 2021
-->
mouthwash-may-eliminate-virus-corona-prsgnt

विशेषज्ञों का दावा- कोरोना वायरस से बचने के लिए माउथवॉश करना हो सकता है कारगार

  • Updated on 5/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस मुंह के रास्ते खत्म किया जा सकता है। इस बारे में अंतरराष्ट्रीय वायरस विशेषज्ञों की एक टीम ने बड़ा दावा किया है। इस दावे में कहा गया है कि माउथवॉश से कोरोना वायरस को खत्म किया जा सकता है।

इस बारे में जानकारी देते हुए शोधकर्ताओं ने कहा है कि माउथवॉश मुंह के द्वारा गले में पहुंचने से पहले ही और कोशिका को संक्रमित करने से पहले ही कोरोना वायरस को खत्म कर सकता है।

दिल्ली के वैज्ञानिकों ने बनाई कोरोना टेस्ट किट ‘फेलूदा’, बेहद कम समय में देगी रिजल्ट

विशेषज्ञों का दावा
मुंह में ही कोरोना के खात्मे को लेकर दावा करने वाले विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस के चारों तरफ एक तरह की चर्बी से बना खोल होता है जो माउथवॉश के संपर्क में आने से गल जाता है। अगर आप माउथवॉश का इस्तेमाल करते हैं तो कोरोना आपके गले में पहुंचने से पहले ही माउथवॉश का रसायन उसे मुंह में ही मार देगा।

इसके साथ ही विशेषज्ञों की सलाह है कि मुंह की सफाई पर ज्यादा ध्यान दिया जाए। दिन में दो बार और कोरोना दौर के बीच गरारे जरूर किए जाएं।

कोरोना वायरस को लेकर चीन ने दी अपनी सफाई, दुनिया को बताए ये 6 फैक्ट

माउथवॉश का रसायन
विशेषज्ञों का कहना है कि माउथवॉश जिन केमिकल्स से मिल कर बनता है वो सभी कोरोना वायरस को रोकने के लिए पर्याप्त हैं। माउथवॉश में क्लोरहेक्सिडिन ग्लूकोनेट, हाइड्रोजन परऑक्साइड और पोविडोन-आयोडीन जैसे रसायन होते हैं। कोरोना वायरस की ऊपरी चर्बी वाली सतह ग्लाइकोप्रोटीन की बनी होती है और यही शरीर में जाकर कोशिकाओं को संक्रमित करती हैं।

विटामिन D की कमी वाले कोरोना मरीजों को मौत का ज्यादा खतरा! पढ़ें रिपोर्ट

डब्लूएचओ राजी नहीं
इस बारे में डब्ल्यूएचओ कुछ और ही कहता है। वो मानता है कि अभी तक ऐसे कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि माउथवॉश से कोरोना वायरस को खत्म किया जा सकता है। हालांकि यह बात सच है कि माउथवॉश में मौजूद केमिकल्स लार में मौजूद कई तरह के सूक्ष्मजीवों को चंद सेकंड में ही खत्म करते हैं।

यहां विशेषज्ञों का ये भी कहना है कि माउथवॉश का इस्तेमाल मुंह के अच्छे एंजाइम को भी मार देता है इसलिए इसका कम प्रयोग करने की सलाह दी जाती है।

दक्षिण कोरिया ने 3टी मॉडल से जीती कोरोना की जंग, क्या भारत भी अपना सकता है 3टी?

माउथवॉश के ब्रांड
यहां विशेषज्ञों का ये भी मानना है कि माउथवॉश के ब्रांड देखकर उसे इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है। ये जरूरी नहीं कि हर ब्रांड के माउथवॉश में वो सभी केमिकल्स या रसायन इस्तेमाल किए गये हों, जिनसे कोरोना वायरस खत्म हो सकता है। इसके लिए बेहतर होगा कि माउथवॉश खरीदने से पहले रसायनों की एक बार जांच कर लें।

कोई भी माउथवॉश खरीदने से पहले, उस पर लिखे रसायनों की लिस्ट चेक करें और जांचे। अगर रयासन पूर्ण नहीं हैं तो उसे न खरीदें और ये भी ध्यान रखें कि आप माउथवॉश कोरोना से बचने के लिए ही नहीं अपने हाईजीन के लिए भी कर रहे हैं, इसलिए अच्छे और ब्रांडवाले माउथवॉश ही लें।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.