Tuesday, Dec 07, 2021
-->
mp-governments-minister-usha-thakurs-controversial-statement-on-madarsa-prsgnt

शिवराज सरकार की महिला मंत्री के बिगड़े बोल, कहा- ‘नफरत फैला रहे मदरसे, बंद हों’, मचा बवाल...

  • Updated on 10/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एक तरफ शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) कांग्रेस नेता और पूर्व मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) सीएम कमलनाथ के आइटम वाले बयान की आलोचना कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ उनकी ही एक मंत्री उषा ठाकुर (Usha Thakur) ने देश में मदरसों को बंद करने को कह कर विवाद पैदा कर दिया है। 

मध्यप्रदेश में उपचुनाव होने वाले हैं और उससे पहले नेताओं के बोल बिगड़ रहे हैं इसी कड़ी में एमपी मंत्री उषा ठाकुर ने देश में मदरसों को बंद किए जाने की बात कही है। 

उन्होंने बच्चों की शिक्षा को एक साथ कराने की बात करते हुए कहा है कि भोजन सबके लिए मिलना चाहिए पर यह जो संविधान की अलग परिभाषा करना..बच्चे, बच्चे होते है, विद्यार्थी, विद्यार्थी होते है पर सबकी सामूहिक शिक्षा होना चाहिए। उन्हों ने कहा कि धर्म आधारित शिक्षा कट्टरता पनपा रही है।

CM योगी की बिहार चुनाव में एंट्री, कैमूर से ताबड़तोड़ रैलियों का किया आगाज....

उन्होंने कहा कि मदरसों में जिस तरह की शिक्षा दी जाती है उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां से आतंकवादी ही बाहर निकलते हैं। तो फिर ऐसे देश विरोधी गतिविधियों को प्रोत्साहन देने वाले मदरसो में की मदद क्यों की जा रही है। उन्हें बंद किया जाना चाहिए और जनता के खून पसीने की गाढ़ी कमाई का इस्तेमाल विकास के कामों किया जाना चाहिए। 

हाथरस घटना में नया मोड़, 4 आरोपियों में से एक निकला नाबालिग, CBI ने शुरू की जांच

इसके साथ ही उषा ठाकुर ने मांग करते हुए कहा कि मदरसों को सरकारी ग्रांट देना बंद किया जाना चाहिए क्योंकि सभी आंतकी मदरसों से ही निकले हैं। 

उन्होंने कहा कि मदरसों को सरकार से मिलने वाली सहायता देना बंद कर दें। वक्फ बोर्ड अपने आप में खुद एक सक्षम संस्था है।  उन्होंने ये भी कहा कि अगर कोई पर्सनल तौर पर मदद करना चाहता है तो हमारा संविधान उसकी इजाजत देता है लेकिन हम खून पसीने की गाढ़ी कमाई को बेकार नहीं जाने देंगे। हम उस पैसे का इस्तेमाल विकास के कामों में करेंगे।  

comments

.
.
.
.
.