Wednesday, Jan 19, 2022
-->
MP Verma and Tiwari begin preparations for Chhath Puja

सांसद वर्मा और तिवारी ने छठ पूजा की तैयारियों की शुरुआत की

  • Updated on 11/8/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। छठ पर्व के बहाने भाजपा ने आगामी एमसीडी चुनाव के लिए पूर्वांचली वोटरों को साधने की जुगत आरंभ कर दी है। भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा और मनोज तिवारी ने न केवल यमुना किनारे पर मुआयना किया, बल्कि डीडीएमए के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए छठ पूजा की तैयारियों की शुरुआत की। 

आईटीओ के निकट स्थित एक छठ घाट पर पूजा-अर्चना

प्रवेश वर्मा ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की ओर से राजधानी के यमुना घाटों पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगाए जाने के बावजूद सोमवार को आईटीओ के निकट स्थित एक घाट पर पूर्जा अर्चना की और सूर्य देव की अराधाना वाले इस त्योहार की तैयारियों की शुरुआत की। उन्होंने रविवार को इसका ऐलान करते हुए मुख्यमंत्री अरविंजद केजरीवाल को चुनौती भी दी थी कि यदि रोक सकते हो तो रोक कर दिखाओ। वर्मा आईटीओ के निकट स्थित एक छठ घाट पर भाजपा कार्यकर्ताओं व पूर्वांचली समाज के लोगों के साथ पहुंचे और वहां पूजा-अर्चना की। 

यमुना के दूषित होने के लिए दिल्ली सरकार जिम्मेदार
वहीं सांसद एवं पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कालिंदी कुंज और वजीराबाद के समक्ष यमुना घाट का मुआयना किया। उनके साथ पूर्वांचल मोर्चा मंत्री एस राहुल, एमसीडी के कई नेता और भाजपा नेता नीलकांत बख्शी भी शामिल रहे। तिवारी ने आरोप लगाया कि पहली बार ऐसा देखा गया है कि मजबूत बैरियर लगाकर यमुना को कैद कर दिया गया है। उन्होंने यमुना किनारे छठ मनाने पर प्रतिबंध लगाने की कड़ी आलोचना की। साथ ही कहा कि दिल्ली सरकार पूर्वांचल की आस्था पर चोट कर दो तरफा मार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि हरियाणा में यमुना किनारे छठ हो सकती है तो दिल्ली में क्यों नहीं। उन्होंने यमुना के दूषित होने के लिए दिल्ली सरकार और उनकी नीतियों को जिम्मेदार ठहराया।

पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम होने तक प्रतिदिन विधायक देंगे धरना:रामवीर सिंह बिधूड़ी 

उल्लेखनीय है कि कोविड महामारी के चलते दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने इस साल यमुना घाटों पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगा दी है। डीडीएमए ने प्रशासन और पुलिस को इस रोक का सख्ती से पालन करने का निर्देश भी जारी किया है। आदेश की अवहेलना करने वालों के खिलाफ डीडीएमए ने कानूनी प्रावधानों के तहत कार्रवाई की बात भी कही थी। 

comments

.
.
.
.
.