Sunday, Jul 03, 2022
-->
mukesh-ambani-bought-a-rolls-royce-car-worth-rs-13-crore-rkdsnt

मुकेश अंबानी ने खरीदी 13.14 करोड़ रुपये की रॉल्स रॉयस कार 

  • Updated on 2/4/2022


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश के सबसे धनवान व्यक्ति मुकेश अंबानी ने 13.14 करोड़ रुपये की लग्जरी रॉल्स रॉयस कार खरीदी है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन अंबानी की खरीदी यह हैचबैक कार ब्रिटिश लग्जरी वाहन विनिर्माता रॉल्स रॉयस की है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस कार को दक्षिण मुंबई के तारदेव क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) में कंपनी की तरफ से पंजीकृत कराया गया है। आरटीओ अधिकारियों की मानें तो रॉल्स रॉयस के कलिनन मॉडल वाली यह पेट्रोल कार देश में अब तक खरीदी गई सबसे महंगी गाडिय़ों में से एक है। अंबानी के इस्तेमाल के लिए खरीदी गई इस कार का वीआईपी नंबर भी लिया गया है। 

BJP MLA राणे न्यायिक हिरासत में, ‘सीने में दर्द’ के चलते अस्पताल ले जाया गया

 

इस कार को रॉल्स रॉयस ने सबसे पहले वर्ष 2018 में बाजार में उतारा था। उस समय इसकी कीमत 6.95 करोड़ रुपये से शुरू होती थी। लेकिन वाहन उद्योग के विशेषज्ञों का कहना है कि ग्राहक की मांग के हिसाब से इस कार में बदलाव किए जाने के बाद इसकी कीमत बढ़ जाती है। आरआईएल ने इस लग्जरी कार के पंजीकरण के लिए एकमुश्त 20 लाख रुपये कर भुगतान किया है। इसका पंजीकरण 30 जनवरी 2037 तक वैध होगा। इसके अलावा सड़क सुरक्षा कर के रूप में भी 40,000 रुपये चुकाए गए हैं। रिलायंस कंपनी के बेड़े में कई महंगी गाडिय़ां पहले से ही शामिल हैं। रॉल्स रॉयस का यह वाहन मॉडल कुछ अन्य उद्योगपतियों एवं बॉलीवुड हस्तियों के पास भी है।

JNU के कुलपति जगदीश कुमार को मोदी सरकार ने बनाया UGC का अध्यक्ष

जियो प्लेटफॉर्म्स ने 1.5 करोड़ डॉलर में टू प्लेटफॉर्म्स में हिस्सेदारी ली
डिजिटल सेवा कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स ने सिलिकॉन वैली स्थित टेक स्टार्टअप टू प्लेटफॉर्म्स में 25 प्रतिशत हिस्सेदारी लेने के लिए 1.5 करोड़ डॉलर का निवेश करने की शुक्रवार को घोषणा की। सैमसंग टेक्नोलॉजी एंड एडवांस्ड रिसर्च के पूर्व अध्यक्ष प्रणव मिस्त्री ने टू प्लेटफॉर्म्स की स्थापना की थी।

कॉरपोरेट टैक्स में छूट को लेकर राजस्व सचिव तरूण बजाज ने रखा सरकार का पक्ष

यह स्टार्टअप कृत्रिम वास्तविकता के क्षेत्र में काम करता है और कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रौद्योगिकी पर आधारित उत्पाद बनाता है। जियो प्लेटफॉर्म्स के निदेशक आकाश अंबानी ने एक बयान में इस हिस्सेदारी अधिग्रहण की घोषणा करते हुए कहा, 'हम कृत्रिम बुद्धिमत्ता, मशीन लर्निंग, मेटावर्स एवं वेब 3.0 के क्षेत्रों में टू प्लेटफॉम्र्स की संस्थापक टीम की क्षमता और अनुभव से खासे प्रभावित हैं। हमें इन क्षेत्रों में उनके साथ मिलकर काम करने की प्रतीक्षा है।' 

शिवसेना का आरोप- मोदी सरकार के एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं कई राज्यपाल

इस अवसर पर टू प्लेटफॉर्म्स के संस्थापक मिस्त्री ने कहा, 'भारत के डिजिटल कायांतरण में महत्वपूर्ण जियो के साथ काम करने के लिए रोमांचित हैं। हम एक साथ कृत्रिम बुद्धिमत्ता की सीमाओं को बढ़ाने और कृत्रिम वास्तविकता के अनुप्रयोग उपभोक्ताओं तक ले जाने की कोशिश करेंगे।' इस अधिग्रहण करार के तहत टू प्लेटफॉम्र्स जियो के साथ मिलकर नई प्रौद्योगिकी को अपनाने और कृत्रिम बुद्धिमत्ता, मेटावर्स एवं मिश्रित वास्तविकताओं जैसे बदलाव लाने वाली प्रौद्योगिकी के निर्माण के लिए काम करेगी।

पेगासस विवाद : सुप्रीम कोर्ट की कमेटी ने लोगों को आगे आने के लिए बढ़ाई मियाद

comments

.
.
.
.
.