Monday, Nov 29, 2021
-->
mukesh ambani reliance industries set up new unit for oil chemicals business rkdsnt

अंबानी की रिलायंस ने तेल-से-रसायन कारोबार को किया अलग, बनाई नई यूनिट

  • Updated on 1/24/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अरबपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries Ltd) ने तेल-से-रासायन कारोबार के लिए अलग इकाई बनाने का काम पूरा लिया है। कंपनी का कहना है कि इस कदम से उसे रणनीतिक साझेदारों के साथ वृद्धि के अवसरों को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। कंपनी की तेल-से-रसायन इकाई में परिशोधन संयंत्र, पेट्रोरसायन इकाइयां और खुदरा ईंधन विपणन कारोबार शामिल है। इसमें केजी-डी6 जैसे तेल व गैस उत्पादक क्षेत्र तथा कपड़ा व्यवसाय शामिल नहीं है। 

उत्तर प्रदेश दिवस पर अखिलेश यादव ने ने भाजपा पर साधा निशाना

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पहली बार चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के वित्तीय परिणामों में तेल-से-रसायन व्यवसाय की एकीकृत कमाई की जानकारी दी। इससे पहले परिशोधन व पेट्रोरसायन व्यवसाय की कमाई का ब्योरा अलग-अलग दिया जाता था, जबकि खुदरा ईंधन विपणन व्यवसाय के परिणाम कंपनी के खुदरा कारोबार के तहत जारी किये जाते थे। 

कांग्रेस कार्य समिति ने की अर्नब व्हाट्सएप चैट मामले की JPC जांच की मांग

दिसंबर तिमाही के परिणाम में कंपनी ने परिशोधन और पेट्रोरसायन के साथ-साथ खुदरा ईंधन विपणन कारोबार का परिणाम एक इकाई के तौर पर पेश किया। इसका परिणाम हुआ कि कंपनी ने परिशोधन से आय की जानकारी नहीं दी, जो कि कंपनी के तेल परिशोधन व्यवसाय के प्रदर्शन का आकलन करने के लिये सबसे महत्वपूर्ण आंकड़ा हुआ करता था। 

ट्रैक्टर परेड में बाधा डालने की साजिश नाकाम, किसानों नेताओं ने पकड़ा एक युवक

कंपनी ने परिणाम जारी करने के बाद निवेशकों के समक्ष एक प्रस्तुति में कहा, ‘‘परिशोधन तथा पेट्रोरसायन कारोबार को तेल-से-रसायन इकाई के रूप में पुनर्गठित करने से नयी रणनीति के साथ ही प्रबंधन के नये रुख का पता चलता है।’’ कंपनी ने कहा कि यह समग्र व तेजी से निर्णय लेने की सुविधा देगा और इसके साथ-साथ रणनीतिक साझेदारी के साथ वृद्धि के आकर्षक अवसरों को आगे बढ़ाने की सहूलियत भी प्रदान करेगा। 

मुंबई में पेट्रोल 92 रुपये के पार, डीजल भी रिकॉर्ड स्तर पर

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने सऊदी अरामको जैसी कंपनियों को हिस्सेदारी की संभावित बिक्री के लिये तेल-से-रसायन व्यवसाय को अलग इकाई बनाने का काम पिछले साल शुरू किया था। कंपनी के तेल-से-रसायन व्यवसाय का मूल्यांकन 75 अरब डॉलर किया गया था। कंपनी सऊदी अरब ऑयल कंपनी (अरामको) के साथ 20 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री के लिये बातचीत कर रही थी। हालांकि, कंपनी ने अरामको के साथ चल रही बातचीत का उल्लेख नहीं किया है।

वार्ता बेनतीजा, मोदी सरकार ने किसान आंदोलन की ‘पवित्रता’ पर उठाए सवाल

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.