Tuesday, Nov 30, 2021
-->
mumbai-congress-protests-against-arnab-goswami-alleged-talks-after-ncp-rkdsnt

NCP के बाद मुंबई कांग्रेस ने अर्नब की कथित बातचीत के खिलाफ किया प्रदर्शन

  • Updated on 1/21/2021


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस की मुंबई इकाई ने रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की व्हाट््सऐप पर कथित बातचीत को लेकर शुक्रवार को यहां प्रदर्शन किया। पार्टी ने आरोप लगाया है कि यह कथित बातचीत राष्ट्रीय सुरक्षा और सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करती है। नगर कांग्रेस प्रमुख भाई जगताप ने दक्षिण मुंबई के वर्ली स्थित रिपब्लिक टीवी के कार्यालय के पास प्रदर्शन का नेतृत्व किया। 

वार्ता बेनतीजा, मोदी सरकार ने किसान आंदोलन की ‘पवित्रता’ पर उठाए सवाल

यह कथित बातचीत गोस्वामी और ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च कौंसिल (बार्क) के पूर्व प्रमुख पार्थो दासगुप्ता के बीच है तथा यह बालाकोट हवाई हमले से संबद्ध है। जगताप ने गोस्वामी को भाजपा का पिट्ठू करार देते हुए कहा कि उन्होंने (गोस्वामी ने) सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन किया है।  

आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में आयोजित विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे पवार

उन्होंने कहा, ‘‘गोस्वामी को संवदेनशील सूचना कैसे प्राप्त हुई, जो सिर्फ पीएमओ(प्रधानमंत्री कार्यालय) और रक्षा मंत्रालय के पास थी? संवेदनशील सूचना का इस्तेमाल उन्होंने अपने टीवी चैनल की टीआरपी बढ़ाने के लिए किया। ’’ उन्होंने सूचना लीक करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की।

'The White Tiger' Film Review: समाज में अमीर की गरीब पर बेबसी कहानी

अर्नब की कथित बातचीत के खिलाफ राकांपा का प्रदर्शन 
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने बालाकोट हमले के सिलसिले में ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च काउंसिल के पूर्व प्रमुख पार्थो दासगुप्ता के साथ रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की कथित वहाट्सऐप बातचीत के संबंध में कार्रवाई की मांग करते हुए बृहस्पतिवार को प्रदर्शन किया। 

केजरीवाल सरकार ने किया साफ - तय समय से पहले टीका लगवा सकेंगे हैं स्वास्थकर्मी

पार्टी द्वारा जारी बयान के अनुसार, पूर्व विधायक विद्या चव्हाण और महाराष्ट्र राकांपा के प्रवक्ता महेश तापसे के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने समाचार चैनल के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। मीडिया में जंगल की आग की तरह फैली इस कथित बातचीत का आशय यह है कि गोस्वामी को बालाकोट हमले की जानकारी थी। 

मोदी सरकार के प्रस्ताव को आंदोलनरत किसानों ने सिरे से ठुकराया, कृषि कानूनों को रद्द करने पर अड़े

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.