Sunday, Mar 07, 2021
-->
muzaffarpur-this-fruit-of-chinese-origin-is-useful-in-war-against-corona-prsgnt

कोरोना से बचा सकता है बिहार का ये फल, इम्युनिटी बढ़ाने में है मददगार

  • Updated on 7/8/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस को मात देने के लिए भारत में वैक्सीन बनाने पर काम शुरू हो चुका है इसी बीच बिहार के मुजफ्फरपुर में पाए जाने वाले एक फल पर शोध किया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि चीनी मूल के इस फल  लौंगन से रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ सकती है और इसलिए ये कोरोना की जंग को लड़ने में मददगार साबित हो सकता है।

निम्स में शुरू हुआ भारत की पहली कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ का ह्यूमन ट्रायल

लीची का रूप
लौंगन का रंग-रूप लीची से काफी मिलता जुलता है और ये काफी मीठा भी होता है। इसका वजन 10 से 15 ग्राम होता है और ये काफी रसभरा होता है। ये लीची के ही परिवार का फल है। बताया जा रहा है कि बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में मिलने वाला ये फल जुलाई के अंत तक पक कर तैयार हो जाएगा।

प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक
जानकारों की माने तो इस फल के पोषक तत्व रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक हैं और इसलिए इसे कोरोना वायरस के लिए काफी उपयोगी बताया जा रहा है। विज्ञानियों ने इस फल को लेकर दावा किया है कि इसका का उत्पादन चीन, मलेशिया व थाइलैंड आदि देशों में भले ही होता आया है।

लेकिन मुजफ्फरपुर में इस फल की सबसे उच्चतम वेरायटी पैदा होती है। इस फल, लौंगन के पोषक तत्व शारीरिक कमजोरी की स्थिति में तुरंत ऊर्जा पहुंचाने का काम करती है और इस फल को खाने से यादाश्त भी बढ़ती है।

कोरोना वैक्सीन परीक्षण के लिए चुने गए चिरंजीत, बोले- मां रोई फिर देश के लिये मान गई

चीनी मूल का फल
इस फल के बारे में स्थानीय लोगों ने बताया है कि चीनी मूल के इस फल में फूल आने की शुरूआत अप्रैल में होती है और ये जुलाई के अंत तक पककर तैयार हो जाता है। अगस्त के पहले सप्ताह में यह खत्म भी हो जाता है। पांच से 10 मीटर ऊंचे प्रति पौधे में 25 से 30 किलो फल लगते हैं। अनुसंधान केंद्र में अभी 50 से 60 पौधे हैं। यहां से पौधों की बिक्री भी की जा रही है।

अमेरिका ने कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए खोला अपना खजाना, दिए इतने अरब

एंटी कैंसर एलीमेंट्स
विज्ञानियों का मानना है कि इस फल में एंटी पेन और एंटी कैंसर एलीमेंट्स  पाए जाते हैं। इतना ही नहीं इस फल में कार्बोहाइड्रेट, कैरोटीन, विटामिन के, रेटिनॉल, प्रोटीन, राइबोफ्लेविन, फाइबर, एस्कॉर्बिक एसिड व थायमिन की भरपूर मात्रा होती है।

इसके ढेर सारे तत्व और इसके न्यूट्रीशन पार्ट को लेकर आईआईटी खडगपुर में इस फल पर रिसर्च चल रही है। साथ ही इसके गुणों को देखते हुए इसे कोरोना के लिए काफी उपयोगी माना जा रहा है। इतना ही नहीं इसे कुछ दवाओं के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.