Wednesday, Apr 14, 2021
-->
nafed director ashok thakur said soon to get rid of expensive onions told full plan albsnt

NAFED निदेशक अशोक ठाकुर ने कहा- जल्द ही महंगे प्याज से मिलेगा छुटकारा, बताया प्लान

  • Updated on 10/29/2020

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। कभी सरकार बनाने से लेकर गिराने तक में भूमिका निभाने वाली प्याज पर फिर से तकरार शुरु हो गई है। प्याज को लेकर राजनीति किस कदर घूम जाती इसके ढ़ेर सारे उदाहरण मौजूद है। आलम तो यह है कि कल विपक्ष में रहते हुए सरकार पर महंगे प्याज को लेकर तंज कसने से जो पार्टी नहीं चूकती थी,अब सरकार में आने पर प्याज ने उन्हें भी रुला दिया है। शायद ही कोई दल हो जिसकी सरकार की चूल्हे इस महंगी प्याज ने हिला नहीं दी हो। वहीं  केंद्र सरकार ने डेमेज कंट्रोल के लिये एहितियाती कदम उठाये है। इस बाबत NAFED के डायरेक्टर अशोक ठाकुर (Ashok Thakur) ने भरोसा दिया है कि जल्द ही प्याज लोगों को सस्ती मिलनी शुरु हो जाएगी। उन्होंने इसके लिये पूरी रुपरेखा का भी जिक्र किया जो बेहद महत्वपूर्ण है।

JNU प्रशासन ने छात्रों को सड़क अवरोधक को लेकर दी चेतावनी

किचेन और थाली से गायब हुई प्याज 

अशोक ठाकुर ने जोर देकर कहा कि किचेन और थाली से गायब हो रही प्याज अब सस्ती और सुलभ होगी। उन्होंने दावा किया कि जल्द ही 21 रुपये प्रति किलो की दर से प्याज लोगों को मिलनी शुरु हो जाएगी। हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि राज्य को भले ही 21 रुपये में उपलब्ध कराया जाए लेकिन परिवहन खर्च जोड़ने के बाद प्याज का दाम 30 रुपये तक हो सकती है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में सफल दुकान पर सस्ती प्याज उपलब्ध हो रही है।

बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने की गृह मंत्री से मुलाकात, बढ़ा सियासी पारा 

ज्यादा बारिश के कारण महंगी हुई प्याज

उन्होंने महंगे प्याज को लेकर कहा कि ज्यादा बारिश होने के कारण ही प्याज के दाम आज 80 रुपये से लेकर 100 रुपये तक बिकने लगी है। उन्होंने कहा कि इस पर ब्रेक के लिये ही केंद्र सरकार नए आदेश के बाद  खुदरा व्यापारी अब सिर्फ 2 टन प्याज का ही स्टॉक कर सकते हैं। वहीं थोक व्यापारी 25 टन तक प्याज स्टॉक कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अक्सर हमें तीन महीनों के लिये प्याज का भंडारण करना पड़ता है। लेकिन इस दौरान 10 फीसदी प्याज खराब होना भी शुरु हो जाता है। यह समय मुश्किल होता है। कारण नए फसल के लिये थोड़ा इंतजार करना पड़ता है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले 10 दिनों में जयपुर से नए प्याज आने शुरु हो जाएंगे। 

बिहार: मुंगेर में युवक की मौत के बाद हिंसा, निर्वाचन आयोग ने DM- SP को हटाया

सस्ता प्याज को लेकर नेफेड ने की पूरी तैयारी

उन्होंने सरकार का बचाव करते हुए कहा कि नेफेड ने  बफर स्टॉक के लिए 1 लाख टन प्याज की खरीद पिछले साल की थी। ताकि लोगों को समय पर सस्ती प्याज दिया जा सकें। इस दिशा में नेफेड ने त्वरित कदम उठाते हुए विभिन्न राज्यों को 75 हजार मैट्रिक टन प्याज भेजा है। जिससे प्याज के दाम काबू किया जा सकें।    

Twitter को भारी पड़ी यह गलती, भारत सरकार ने पत्र लिखकर हड़काया

कोरोना के बाद प्याज ने बढ़ाई टेंशन

बता दें कि साल 2020 कई मायनों में याद रखा जाएगा। एक तरफ आम जनों का जीवन  कोरोना वायरस के कारण अचानक से पटरी से उतर आया तो अब जबकि धीरे-धीरे सबकुछ सामान्य हो रही है कि तभी महंगे प्याज ने फिर से लोगों को परेशान करके रख दिया है। बिहार विधानसभा चुनाव में भले ही महंगी प्याज उतना बड़ा मु्द्दा नहीं बना हो लेकिन लोगों में नाराजगी स्पष्ट है। हालांकि सरकार ने लोगों को मलहम लगाने के प्रयास किये है। लेकिन अभी-भी महंगी प्याज से राहत का लोगों को बेसब्री से इंतजार है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.