Tuesday, Aug 03, 2021
-->
narada case bengal minister subrata mukherjee discharged from hospital pragnt

नारद मामला: ममता के मंत्री सुब्रत मुखर्जी को मिली अस्पताल से छुट्टी, हुए हाउस अरेस्ट

  • Updated on 5/26/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता और पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ मंत्री सुब्रत मुखर्जी को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद घर लौटे, जहां उन्हें नारद स्टिंग टेप मामले में कलकत्ता हाई कोर्ट के अगले आदेश तक नजरबंद कर दिया गया है। मंगलवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिली है। 

अधिकारियों ने कहा कि मुखर्जी को सभी औपचारिकताएं पूरी करने के लिये प्रेसिडेंसी सुधार गृह लाया गया, जहां उन्हें एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती करने से पहले रखा गया था। इसके बाद उन्हें कोलकाता पुलिस के वाहन में बेलीगंज स्थित उनके आवास पर लाया गया।

बंगाल के पूर्व सीएम की हालत बिगड़ी,अस्पताल में हुए एडमिट

हाउस अरेस्ट पर है TMC के चारों नेता
कलकत्ता उच्च न्यायालय ने इस मामले में सीबीआई की एक अदालत द्वारा मुखर्जी, मंत्री फरहाद हाकिम, टीएमसी विधायक मदन मित्रा और पार्टी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी को दी गई जमानत पर 17 मई को रोक लगा दी थी, जिसके बाद उसी दिन उन्हें गिरफ्तार कर सुधार गृह ले जाया गया था। चटर्जी, मुखर्जी और मित्रा को तबीयत बिगड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हाकिम को बुखार आने के बाद सुधार गृह के स्वास्थ्य देखभाल केन्द्र में ले जाया गया था।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक को पेश होने के लिए भेजा नोटिस

क्या है मामला?
नारद टीवी न्यूज चैनल के मैथ्यू सैमुअल ने 2014 में कथित स्टिंग ऑपरेशन किया था जिसमें तृणमूल कांगेस के मंत्री, सांसद और विधायक लाभ के बदले में कंपनी के प्रतिनिधियों से कथित तौर पर धन लेते नजर आए। उस वक्त चारों नेता ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार में मंत्री थे। यह टेप पश्चिम बंगाल में 2016 के विधानसभा चुनाव के ठीक पहले सार्वजनिक हुआ था।

केंद्र और बंगाल सरकार का मिलजुल कर चलना ही देश हित में है

19 मई तक की हिरासत में थे नेता
बता दें कि बंगाल में चल रहे नारदा केस में तृणमूल कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं को 19 मई तक की हिरासत में रखने का आदेश दिया गया था। वहीं इन्हें कोलाकाता हाई कोर्ट से बड़ा झटका लगा था। कोलकाता हाईकोर्ट ने नारद स्टिंग मामले में बीते सोमवार को देर रात सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए गए पश्चिम बंगाल के मंत्रियों और नेताओं को दी गई जमानत पर रोक लगा दी थी। सीबीआई स्पेशल कोर्ट की तरफ से दी गई जमानत पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी थी, इसके बाद ये चारों न्यायिक हिरासत भेजे गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.