Saturday, Dec 03, 2022
-->
narendra modi and ramnath kovind paid tribute pranab mukherjee pragnt

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर PM मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

  • Updated on 8/31/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पिछले काफी लंबे वक्त से बीमार चल रहे भारतीय पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का आज 31 अगस्त को 84 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके निधन की जानकारी खुद उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी (Abhijit Mukherjee) ने ट्वीट करके दी है।

'भारत रत्न' पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी  के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति समेत कई दिग्गज नेताओं ने शोक जाहिर करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं रहे, सैन्य अस्पताल में चल रहा था इलाज

देखें ट्वीट...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'भारत, भारत रत्न श्री प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोकाकुल है। उन्होंने हमारे राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है।'

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया। 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया। 

नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहते हैं, 'नेपाल ने एक महान दोस्त खो दिया है।'

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, 'देश ने एक महान सपूत खोया है। भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन से पूरा देश दुखी है। चाहे पार्लियामेंट में उनका भाषण हो या उनसे कोई मुलाकात वो हमेशा एक अच्छे शिक्षक के रूप में पेश आए। उनको हमारी भावपूर्ण श्रद्धांजलि।'

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'प्रणब मुखर्जी जी के निधन पर बहुत दुख हुआ है। उनके काम को लोग हमेशा याद रखेंगे। देश ने एक बहुत अच्छा देशभक्त सपूत खो दिया है। हम प्रार्थना करेंगे कि उनकी आत्मा को शांति मिले। उनके बेटे और बेटी को साहस मिले।'

जनार्दन द्विवेदी ने कहा, 'कांग्रेस की परंपरा में इस समय प्रणब जी अकेले व्यक्ति थे जिनके साथ इतिहास, संस्कृति एवं राजनीति के व्यापक पक्षों पर लंबा संवाद हो सकता था । यह अपूरणीय क्षति है। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।'

Corona के कारण अप्रैल-जून तिमाही में भारत की जीडीपी में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न श्री प्रणब मुखर्जी जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा, 'श्री प्रणब मुखर्जी जी सार्वजनिक जीवन में शुचिता, पारदर्शिता एवं स्पष्टवादिता की प्रतिमूर्ति थे।'

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'पूर्व राष्ट्रपति मा. श्री प्रणब मुखर्जी के निधन के समाचार को सुनकर अत्यंत दु:ख हुआ। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं। ॐ शांति!' उन्होंने कहा, 'देश के विकास में उनका (पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी) अतुलनीय योगदान रहा है। आजादी के बाद से ही लगातार केंद्र सरकार में विभिन्न पदों पर रहकर उन्होंने मां भारती और जनता की सेवा की है। मैं उनके चरणों में श्रद्धा के सुमन अर्पित करता हूं।' 

उत्तर प्रदेश उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, 'भारत रत्न और भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर बेहद दुख हुआ है। उनके परिजनों को, उनके समर्थकों को ये दुख सहने की शक्ति मिले। यह देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है, जिसकी भरपाई करना मुश्किल है।'

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, 'देश के पूर्व राष्ट्रपति, भारतरत्न प्रणब मुखर्जी जी के निधन से मुझे गहरा दुख हुआ है। उनकी मृत्यु देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है। प्रणब दा, उमदा व्यक्तित्व के धनी और अच्छे मित्र थे।'

प्रणब मुखर्जी की तबीयत बिगड़ी, फेफड़े में इंफेक्शन के कारण आया सेप्टिक शॉक

10 अगस्त को कराया गया था भर्ती
मुखर्जी को गत 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और आज सुबह जारी एक स्वास्थ्य बुलेटिन में कहा गया कि वह गहरे कोमा में हैं और उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया है। मुखर्जी के पुत्र अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘भारी मन से आपको सूचित करना है कि मेरे पिता श्री प्रणब मुखर्जी का अभी कुछ समय पहले निधन हो गया। आरआर अस्पताल के डॉक्टरों के सर्वोत्तम प्रयासों और पूरे भारत के लोगों की प्रार्थनाओं और दुआओं के लिए मैं आप सभी को हाथ जोड़कर धन्यवाद देता हूं।

अवमानना मामला: प्रशांत भूषण बोले- खुशी-खुशी भरूंगा 1 रुपए का जुर्माना

हाल ही में हुई थी मस्तिषक की सर्जरी
84 वर्षीय मुखर्जी का इलाज सेना के अनुसंधान एवं रेफरल अस्पताल में चल रहा था। वह वेंटिलेटर पर गहरे कोमा में थे। मुखर्जी का इलाज विशेषज्ञों की एक टीम कर रही थी। पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को यहां अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी। बाद में उनके फेफड़ों में भी संक्रमण हो गया था। मुखर्जी के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही थी। मुखर्जी 2012 से 2017 के बीच 13वें राष्ट्रपति थे। 

comments

.
.
.
.
.