Wednesday, Sep 18, 2019
narendra-modi-bjp-govt-approved-extension-of-president-rule-in-jammu-and-kashmir

मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर में बढ़ाई राष्ट्रपति शासन की मियाद

  • Updated on 6/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार ने बुधवार को जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की मियाद 6 महीने के लिए बढ़ाने को मंजूरी दे दी। यह निर्णय 3 जुलाई से लागू होगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह जानकारी दी।

#AmnestyInternational को नहीं मिली श्रीनगर में प्रेस कांफ्रेंस की इजाजत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक हुई जिसमें जम्मू कश्मीर में केंद्र के शासन के विस्तार को मंजूरी दे दी गई जो राज्य में 20 जून 2018 से लगे राष्ट्रपति शासन का ही विस्तार है। जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की मियाद बढ़ाए जाने के बाबत किए गए सवाल पर जावड़ेकर ने कहा, ‘‘ जी हां, यह फैसला किया गया है।’’ 

केजरीवाल खुश हैं महिलाओं के लिए फ्री ट्रेवल पर DMRC के प्रपोजल से

सरकारी बयान में बताया गया है कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल की रिपोर्ट में बताए गए राज्य के हालात के आधार पर प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाले केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 356 (4) के तहत जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की मियाद छह महीने बढ़ाने को मंजूरी दे दी जो तीन जुलाई से प्रभावी होगी। 

कमलनाथ सरकार गिराने को लेकर विजयवर्गीय ने किया चौंकाने वाला दावा

बता दें कि यह राज्य में केंद्र के शासन का अंतिम विस्तार हो सकता है क्योंकि चुनाव आयोग ने हाल में एक बयान जारी कर कहा था कि एक जुलाई से शुरू हो रही सालाना अमरनाथ यात्रा के समापन के बाद जम्मू कश्मीर में चुनावों का ऐलान किया जाएगा।

केजरीवाल को बिजली मुद्दे पर शिकायत का आधार नहीं बता सकीं शीला दीक्षित

बयान में बताया कि राज्य में दो जुलाई को राष्ट्रपति शासन की अवधि खत्म हो रही है और राज्यपाल ने सिफारिश की थी कि राष्ट्रपति शासन तीन जुलाई से छह महीने की अवधि के लिए बढ़ाया जा सकता है।

चक्रवात वायु : गुजरात में परिवहन सेवाएं, बंदरगाह पर कामकाज रोका

जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन के विस्तार की मंजूरी लेने के लिए संसद के आगामी सत्र में दोनों सदनों में एक प्रस्ताव रखा जाएगा। महबूबा मुफ्ती नीत पीडीपी-भाजपा सरकार के गिरने के बाद राज्य में 20 जून 2018 को राज्यपाल शासन लगाया गया था और विधानसभा को निलंबित कर दिया था। राज्यपाल ने बाद में विधानसभा को भंग कर दिया था। 

पवार ने EVM को लेकर जताया संदेह, बोले- दिल्ली में विपक्ष करेगा बैठक

जम्मू कश्मीर के संविधान की धारा 92 के तहत राज्य में छह महीने से ज्यादा वक्त तक राज्यपाल शासन जारी रखने का कोई प्रावधान नहीं है। इसलिए राज्यपाल की अनुशंसा और राज्य की स्थिति को देखते हुए 20 दिसंबर 2018 को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था।     
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.