भारत ने 72,400 असॉल्ट राइफलों के लिए अमेरिकी कंपनी के साथ किया करार

  • Updated on 2/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत ने करीब 700 करोड़ रुपये की कीमत पर 72,400 असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए एक अमेरिकी कंपनी के साथ करार किया है। रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। अमेरिकी बलों के साथ ही कई अन्य यूरोपीय देशों द्वारा इस्तेमाल में लाई जा रहीं इन राइफलों को फास्ट ट्रैक सरकारी खरीद प्रक्रिया के तहत खरीदा जा रहा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने VVPAT पर्चियों की काउंटिंग पर नहीं किया कोई वायदा

अधिकारियों ने बताया कि भारत ने फास्ट ट्रैक प्रोक्योरमेंट (एफटीपी) के तहत एसआईजी जॉर असॉल्ट राइफल्स के लिए अमेरिका के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं और करार के तहत भारत को आज से एक साल के भीतर अमेरिकी कंपनी एसआईजी जॉर से 72,400 7.62 एमएम राइफलें मिल जाएंगी। उन्होंने बताया कि ये नयी राइफलें करीब 700 करोड़ रुपये की कीमत पर खरीदी जा रही हैं।

भाजपा का कांग्रेस पर पलटवार, बोली- 'राफेल फोबिया' के शिकार हुए राहुल

 अधिकारियों ने बताया कि भारतीय सशस्त्र बल फिलहाल 5.56345 एमएम इनसास राइफलों से लैस हैं। प्रयोग में लाई जा रहीं इन राइफलों के स्थान पर 7.62351 एमएम असॉल्ट राइफलों को प्रयोग में लाने की शीघ्र आवश्यकता है। ये असॉल्ट राइफलें छोटी, ठोस, आधुनिक तकनीक वाली हैं, जिन्हें युद्ध की स्थितियों में काम में लाना आसान है। 

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस महीने की शुरुआत में एसआईजी जॉर राइफलों की खरीद को मंजूरी दी थी। इनका इस्तेमाल चीन के साथ लगने वाली करीब 3,600 किलोमीटर की सीमा पर तैनात सेना करेगी। अक्टूबर 2017 में सेना ने सात लाख राइफलों, 44,000 लाइट मशीन गन (एलएमजी) और करीब 44,600 कार्बाइनों की खरीद की प्रक्रिया शुरू की थी। 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.