Thursday, Apr 02, 2020
natural gas prices in the country may be cut by 25 percent from april

देश में प्राकृतिक गैस के दामों में अप्रैल से हो सकती है 25 प्रतिशत की कटौती

  • Updated on 2/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। वैश्विक स्तर पर हो रही दाम में नरमी के साथ देश में प्राकृतिक गैस (Natural gas) की कीमतों में अप्रैल माह से 25 प्रतिशत की कटौती हो सकती है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी (ONGC) और ऑयल इंडिया लि. (OIL) एक अप्रैल से छह महीने की अवधि के लिये गैस के दाम में कटौती कर करीब 2.5 डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट कर सकती हैं।  

अगले महीने घट सकती है LPG गैस की कीमत, पेट्रोलियम मंत्री ने दिए संकेत

हर छह महीने में तय किये जाते हैं प्राकृतिक गैस के दाम 
फिलहाल यह 3.23 डॉलर प्रति यूनिट है। देश में उत्पादित गैस में इन दोनों कंपनियों की अच्छी-खासी हिस्सेदारी है। सूत्रों के अनुसार कठिन फील्डों से उत्पादित गैस के दाम भी मौजूदा 8.43 डॉलर प्रति यूनिट से कम कर 5.50 डॉलर प्रति यूनिट की जा सकती है। प्राकृतिक गैस के दाम हर छह महीने पर एक अप्रैल और एक अक्टूबर को तय किये जाते हैं। प्राकृतिक गैस का उपयोग उर्वरक और बिजली उत्पादन में किया जाता है।

दिल्ली में सम्पत्तियों के लिए जारी होगी यूनिक आईडी, मोबाइल पर भी म्यूटेशन

ऑयल एंड ओएनजीसी जैसी गैस उत्पादकों की आय होती है निर्धारित
साथ ही उसका उपयोग वाहनों में ईंधन के रूप में उपयोग के लिये सीएनजी और घरों में खाना पकाने की गैस में होता है। गैस की दर से जहां यूरिया, बिजली और सीएनजी की कीमतें तय होती हैं, वहीं इससे ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) जैसी गैस उत्पादकों की आय भी निर्धारित होती है। इससे पहले, प्राकृतिक गैस की कीमत में एक अक्टूबर को 12.5 प्रतिशत की कटौती की गयी थी। इसके तहत दर 3.69 डॉलर प्रति यूनिट से कम कर 3.23 डॉलर प्रति यूनिट किया गया।

फसल बीमा योजना को स्वैच्छिक बनाने को लेकर मोदी सरकार पर बरसे चिदंबरम

कटौती से ओएनजीसी जैसी कंपनियों की आय होगी कम
वहीं कठिन क्षेत्रों से उत्पादित गैस के लिये कीमत उच्चतम स्तर 9.32 डॉलर प्रति यूनिट से घटाकर 8.43 डॉलर प्रति यूनिट किया गया। सूत्रों ने कहा कि दाम में कटौती से देश की सबसे बड़ी उत्पादक कंपनी ओएनजीसी की आय पर असर पड़ेगा। इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसकी भागीदार बीपी की आय भी प्रभावित हो सकती है जो दूसरे चरण में पूर्वी अपटीय क्षेत्र में केजी-डी6 ब्लाक में खोजे गये फील्ड से 2020 के मध्य से उत्पादन की योजना बनायी है। गैस की कीमतों में कटौती से ओएनजीसी जैसी कंपनियों की आय कम होगी लेकिन इससे सीएनजी के दाम भी कम होंगे जिसका उपयोग कच्चे माल के रूप में प्राकृतिक गैस में किया जाता है।

OTP का अब झंझट होगा खत्म, आसान होगा लेन-देन!

रसोई गैस और उर्वरक तथा पेट्रोरसायन की लागतें भी होंगी कम
साथ ही घरों में पाइप के जरिये पहुंचने वाली रसोई गैस और उर्वरक तथा पेट्रोरसायन की लागतें भी कम होंगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ओएनजीसी का गैस करोबार से आय और कमाई करीब 3,000 कम होगी। गैस के दाम में एक डॉलर प्रति यूनिट के बदालाव से यूरिया की उत्पादन लागत करीब 1,600 से 1,800 रुपये प्रति टन का बदलाव आता है। कीमत में कटौती से सरकार की सब्सिडी में 2020-21 की पहली छमाही में 800 करोड़ रुपये की कमी आएगी।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.