Monday, Apr 23, 2018

Exclusive interview : 14 साल बाद भी मेरा भविष्य, गुजरात को बर्बाद करने वाले हो जाएंगे बुड्ढे

  • Updated on 12/13/2017
  • Author : chandan jaiswal

गुजरात ने पिछले पांच चुनाव में ऐसा नहीं देखा था। एक अनजान-सा चेहरा, जिसे तीन साल पहले तक कोई जानता नहीं था। जिसकी उम्र अभी विधायक बनने लायक भी नहीं है, उसने बड़े-बड़ों की नाक में दम कर दिया है। उसने उन सभी को चुनौती दे रखी है, जिन्हें देश में नायक या राजनीति का चाणक्य कहा जा रहा है। पाटीदार अमानत आंदोलन समिति के संयोजक (पीएएएस) 24 वर्षीय हार्दिक पटेल ने गुजरात की सत्ता में चुनौतीविहीन मानी जाने वाली भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ  जिस तरह से हवा बना रखी है, ऐसा राजनीति के इतिहास में कम ही देखने को मिलता है।

PM मोदी के 'डिजिटल इंडिया' में केवल 29 प्रतिशत महिलाएं कर रही इंटरनेट का इस्तेमाल

गुजरात चुनाव के दूसरे और अंतिम चरण के प्रचार के अंतिम दिन से पहले हार्दिक ने रोड शो कर बता दिया कि उनके पीछे कितनी ताकत, कितनी क्षमता है। ध्यान रखना होगा कि यह रोड शो भी उन्होंने बिना प्रशासन की अनुमति के किया था। सोमवार की रात धुमा से सुभाष ब्रिज के बीच रोड शो के दौरान पाटीदार अमानत आंदोलन समिति के संयोजक हार्दिक पटेल से अकु श्रीवास्तव की विशेष बातचीत के अंश:

आपने आरक्षण आंदोलन को एक नई दिशा दी है, पर आपने कभी सोचा है कि ये पूरा कैसे होगा?

-हमारा काम यह सोचना नहीं है। हमारा काम समस्या बताना है, दिक्कत बताना है। आज हमारे समाज की जो स्थिति है, उसमें बहुत सारी बातें ऐसी हैं, जिससे हम सब लोग, विशेष रूप से पाटीदार समाज बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। हमें अपने हालात को देखते हुए आरक्षण चाहिए और हम कुछ नहीं जानते। ये काम सरकार का है और जरूरत पड़े तो सुप्रीम कोर्ट भी उसमें सहयोग करे। संविधान में संशोधन जरूरी है तो वह भी किया जाए। 

आरक्षण को लेकर देश में अलग तरीके की बहस है। संविधान कहता है कि अब तक आरक्षण खत्म हो जाना चाहिए लेकिन हालात ऐसे नहीं बन पाए। कौन जिम्मेदार है?

-तय है कि इसके लिए समाज, वो सरकारें जिम्मेदार हैं, जिन्होंने हमारी अनदेखी की और सभी वर्गों पर सही तरीके से ध्यान नहीं दिया। भाजपा ने तो हमारा दमन किया है। पाटीदार समाज के दर्जनों लड़कों की हत्या की है।

 कल का हार्दिक आज बड़ा नेता हार्दिक पटेल है। आपने आरक्षण आंदोलन तो खड़ा किया, आगे की क्या तैयारी है?

-ये जो हवा दिख रही है, आपको और मेरे पीछे हजारों युवाओं की जो भीड़ दिख रही है, वो ये पक्के तौर पर बताती है कि आंदोलन खड़ा कैसे किए जाते हैं। हम अपना हक लेना जानते हैं और अगर अगली सरकार, जो तय है कि भाजपा की नहीं होगी, उसने हमें हक नहीं दिया तो वो भी अगले 50 साल में सत्ता की नहीं सोच सकेंगे।

आजाद भारत का पहला वित्तीय घोटाला, खुलासा होने के बाद ससुर-दामाद के रिश्तों में आ गई थी दरार

गुजरात के विकास पर आपके सवाल हैं? क्या सचमुच गुजरात का विकास नहीं हुआ है?

-अगर आप सड़कों, पुलों को विकास मानते हैं तो ये आपकी इच्छा है। इस विकास में दिल्ली से आए पत्रकारों की गाडिय़ां तो चलती हैं लेकिन किसान का हल नहीं दिखता। किसान तो किसी न किसी मजबूरी से आत्महत्या कर रहा है। युवाओं को नौकरी कौन दे पा रहा है? सबसे बड़ी बात तो ये लंका का भी विकास हुआ था, पर रावण के अहंकार की वजह से उसको जलना पड़ा था।

आपके आंदोलन में किसान कहां हैं? आपके चेहरे तो जीन्स वाले युवा हैं, रोड शो में भी किसान नहीं दिख रहे हैं?

-रोड शो तो शहरी लोगों के लिए है। जिन शहरियों को आप भाजपा का बताते हैं, यहां ये भीड़ देखकर आपको समझ जाना चाहिए कि शहरी भी हमारे साथ हैं। 

आपको तो रोड शो की अनुमति नहीं मिली थी?

-हमने मांगी, नहीं मिली। अब मैं तो रोड शो नहीं करने जा रहा था। मैं तो अपनी कार में जा रहा था, पीछे पुलिस की गाड़ी थी, जो सरकार ने दी हुई है। अब अगर लोग इसके पीछे आ जाते हैं और हाॢदक-हाॢदक चिल्लाते हैं तो मैं क्या करूं।

आप पाटीदार (पटेल) समाज से हैं, ऐसे में एक डर यह भी है कि आपके खिलाफ  दूसरी जातियों की गोलबंदी हो? आपके पुराने साथी भी अब दूर होते जा रहे हैं? 

-मुझे तो नहीं लगता है लेकिन अगर पाटीदार के खिलाफ  लोग एकजुट होते तो इतनी भीड़ कहां से आती मेरे पीछे। आप पता लगा लीजिए इस रोड शो में कितने पाटीदार हैं।

सफरनामा 2017: इस साल के इन रोमांटिक गानों ने बनाया सबको दीवाना

आपको लेकर कई सेक्स सीडी भी सामने आई हैं?

-ये सब भाजपा ने बनवाई हैं और गुजरात वैसे भी खुले दिमाग वाले लोगों का राज्य है। यहां अन्य राज्यों की तरह बंद दिमाग से लोग नहीं सोचते। 

आप गुजरात के नेताओं (भाजपा नेताओं) को गुंडा कहते हैं। इनसे कैसे निपटेंगे?

-इनसे निपटने का काम मैंने जनता पर छोड़ दिया है। उसने दो दिन पहले सबक सिखा दिया है और बाकी सबक वह 14 (दूसरे चरण के मतदान का दिन) को सिखा देगी।

आप खुद तो चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, उम्र की बाधा है लेकिन आरोप ये लगाया जाता है कि आप कांग्रेस के हाथों खेल रहे हैं या ये कहें कि आंदोलन पाटीदार का फायदा कांग्रेस को है? आखिर आपस में क्या तय हुआ है?

-मैं तो नहीं कहता कि कांग्रेस को वोट दो। आपने खुद देखा होगा कि मैं क्या बात करता हूं लोगों से। मैं पूछता हूं, आप सरदार हो, आप पाटीदार हो तो उनका जवाब हां में होता है। फिर मैं उनसे पूछता हूं कि वोट किसको दोगे तो वे खुद कहते हैं कांग्रेस को। मैं नहीं कहता। अब भाजपा को हटाना है तो किसी को तो लाना होगा न।

आप पर आरोप लग रहा है कि आप कांग्रेस उम्मीदवारों के क्षेत्र में जाने के पैसे ले रहे हैं?

-बकवास आरोप है, अगर भाजपा को हराना है तो मैं किसी के लिए तो प्रचार करूंगा और अगर वे कांग्रेसी हैं तो मैं क्या करूं। कोई साबित करे कि मैंने कांग्रेसियों से पैसे लिए हैं।

सफरनामा 2017: गुजरते साल में दुनिया ने देखी ये 5 बड़ी प्राकृतिक आपदाएं

अगर भाजपा सत्ता में आ गई तो आपका क्या होगा? आगे की क्या योजना है?

-मुझे उसकी भी ङ्क्षचता नहीं है। तय है भाजपा अगर दोबारा सरकार में आ गई तो वे मुझे देशद्रोह के आरोप में जेल में डाल देंगे। देशद्रोह की सजा 14 साल अधिकतम होती है लेकिन 14 साल बाद भी मेरा भविष्य होगा और गुजरात को बर्बाद करने वाले ‘धरड़ा थई जसे ‘यानी बुड्ढे हो चुके होंगे। 

आपका आदर्श नेता कौन है? 

- हिंदू हृदय सम्राट बाल ठाकरे। उनकी नीतियां मुझे पसंद हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.