Friday, Apr 19, 2019

देशभर में मची नवरात्रि की धूम, आज होगी मां शैलपुत्री की पूजा

  • Updated on 4/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नौ दिनों तक चलने वाले वासंतिक नवरात्र या चैत्र नवरात्र की धूम हर तरफ मची है। नवरात्र के पावन दिन शनिवार 6 अप्रैल यानि आज से शुरू होकर 14 अप्रैल तक चलेंगे। इस दौरान मंदिरों में देवी मां के नौ रूपों के दर्शन पूजन की धूम रहेगी।

राजधानी के प्रमुख मंदिरों कालकाजी, झंडेवालान, बिरला मंदिर, छतरपुर कात्यानी देवी, संतोषी माता मंदिर में पूजा के साथ मेले का आयोजन किया गया है और सुरक्षा के विशेष प्रबंध किए गए हैं।  नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा अलग-अलग श्रृंगार के साथ विधि-विधान के साथ की जाती है।

ये नवरात्रि है कुछ खास, बन रहे कई अद्भुत संयोग

इस दौरान मंदिरों में अखंड ज्योत जलाई जाती है, जिसका दर्शन करने के लिए भक्तों की लाईन लग जाती है। मंदिरों को इस दौरान जहां फूलों, रंगीन बल्बों व लडिय़ों से सजाया गया है वहीं दुर्गासप्तशती का पाठ व वेद मंत्रों का उच्चारण करने का भी प्रबंध मंदिर प्रशासनों द्वारा किया गया है। 

श्री हरिमंदिर साहिब के दर्शन के लिए लगेगी लम्बी लाइन! VIP दर्शन पर रोक

आपको बता दें कि इस बार वासंतिक नवरात्र में बहुत से अद्भुत संयोग बन रहे हैं। ज्योतिषियों के अनुसार नवरात्र में कार्यसिद्धि, अर्थसिद्धि, पद-प्रतिष्ठा के लिए देवी मंदिरों में विशेष अनुष्ठान का आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। आठ दिन का नवरात्र होने के चलते दुर्गा की उपासना के लिए यह नवरात्र बेहद शुभ हैं।

बनना चाहते हैं धनी तो आजमाएं ये टोटका, रातों-रात हो जाएंगे मालामाल

चैत्र नवरात्र में शुरू होता है हिंदू नववर्ष
नवरात्रों के शुरू होने के साथ ही हिंदू नववर्ष भी प्रारंभ हो जाता है, और पंचांग की गणना की जाती है। पुराणों के अनुसार चैत्र नवरात्र से पहले मां दुर्गा अवतरित हुई थीं। 

ब्रह्म पुराण के अनुसार, देवी ने ब्रह्माजी को सृष्टि निर्माण करने के लिए कहा था। चैत्र नवरात्र के तीसरे दिन भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप में अवतार लिया था। श्रीराम का जन्म भी चैत्र नवरात्र में ही हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.