Thursday, Aug 16, 2018

NCB ने अवैध दवाएं विदेश भेजने को लेकर गुरूग्राम की ऑनलाइन फार्मेसी का भंडाफोड़ किया

  • Updated on 8/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने गुरूग्राम स्थित एक अवैध ऑनलाइन फार्मेसी का भंडाफोड़ किया है, जो कथित रूप से ‘हर्बल दवा’ के नाम पर नशीली दवाएं अमेरिका और कुछ यूरोपीय देश भेजती थी। अधिकारियों ने बताया कि एनसीबी ने ऐसी दवाओं की 22 हजार गोलियां बरामद की हैं।

एनसीबी की दिल्ली क्षेत्रीय इकाई ने कहा कि उसने इस संबंध में अमित कुमार को हिरासत में लिया है उसकी दो कंपनियां जातक साफ्टेक और फार्मा ग्लो कथित रूप से अवैध दवा तस्करी रैकेट चलाने के लिए जांच के घेरे में हैं। उसने कहा कि एजेंसी के अधिकारियों ने यहां दो अगस्त को विदेश डाकखाना में ऐसे नशीले पदार्थों के 44 पैकेट पकड़े हैं जिसे अमेरिका, ब्रिटेन और हंगरी भेजा जाना था।  

तेजस्वी ने जब मीडिया पर किया हमला, तो राहुल गांधी ने किया बचाव

पैकेटों पर विभिन्न नियामक विभागों के प्रमाणीकरण मोहर थीं और इस खेप को ‘‘हर्बल दवा’’ घोषित और पैक किया गया था। अधिकारियों ने बताया कि एनसीबी ने उसके बाद कंपनी से जुड़े और उसके मालिक के विभिन्न परिसरों पर छापेमारी की और वहां से डायजापाम, जोलपिडाम, क्लोनोजापाम, अल्प्राजोलाम, निट्रेजापाम,ट्रामाडोल आदि जैसे नशीली दवाओं की कुल 22410 गोलियां जब्त की।  

एनसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि छापेमारी के दौरान सरकारी एजेंसियों जैसे डाक विभाग, सीमा शुल्क, बीमा कंपनियों, बैंक, अस्पताल और फार्मा कंपनियों की कुल 79 फर्जी मोहरें भी जब्त की गई हैं। उन्होंने बताया कि कुमार की कंपनियां अवैध आनलाइन फार्मेसी थीं जो कि भारत से ऐसी दवाओं की तस्करी कर रही थी। उन्होंने कहा कि जातक साफ्टेक ने कथित रूप से 57 वेबसाइट शुरू की हैं।  

कंपनी ने वेबसाइट बनाने के नाम पर कुछ अमेरिकी कंपनियों के साथ सम्पर्क किया था लेकिन वह वास्तव में इंटरनेट पर अवैध दवाओं के कारोबार में लिप्त थी। एनसीबी ने कुमार की कंपनियों के 17 बैंक खातों के लेनदेन पर रोक लगा दी है और 22 करोड़ रूपये की सम्पत्ति की पहचान की है जिसे मादक पदार्थ निरोधक कानून के तहत कुर्क किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.