Friday, Nov 27, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 27

Last Updated: Fri Nov 27 2020 08:38 AM

corona virus

Total Cases

9,309,871

Recovered

8,717,709

Deaths

135,752

  • INDIA9,309,871
  • MAHARASTRA1,795,959
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA878,055
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA578,364
  • NEW DELHI551,262
  • UTTAR PRADESH533,355
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT201,949
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
nclat reserved its decision on contempt petition against reliance group chairman anil ambani

अनिल अंबानी, अन्य के खिलाफ दायर अवमानना याचिका पर आदेश सुरक्षित

  • Updated on 7/3/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने बुधवार को रिलायंस समूह के चेयरमैन अनिल अंबानी और उनकी कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ अवमानना याचिका की स्वीकार्यता पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। यह अवमानना याचिका अल्पांश शेयरधारकों ने बकाये के कथित रूप से भुगतान नहीं करने को लेकर दायर की है। 

#ChandniChowk: AAP विधायक बोले- पुलिस के अनुरोध पर लोगों को किया था शांत

एनसीएलएटी के चेयरमैन न्यायाधीश एस जे मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने कहा कि वह यह निर्णय करेगी कि एचएसबीसी डेजी इनवेस्टमेंट््स (मारीशस) और अन्य की अवमानना याचिका को स्वीकार किया जाना चाहिये अथवा नहीं क्योंकि रिलायंस कम्युनिकेशंस (आर कॉम) अब ऋण शोधन अक्षमता प्रक्रिया में है। 

नवजोत सिद्धू ने एक महीने बाद भी नहीं संभाला नए मंत्रालय का प्रभार 

आर कॉम की इकाई रिलायंस इंफ्राटेक के खिलाफ भी अवमानना याचिका दायर की गयी है। समाधान पेशेवर के लिये पेश अधिवक्ता ने कहा कि चूंकि आर कॉम ऋण शोधन अक्षमता प्रक्रिया से गुजर रही है और आईबीसी (ऋण शोधन अक्षमता एवं दिवाला संहिता) के तहत स्थगन अवधि के अंतर्गत है और वह भुगतान नहीं कर सकती है। 

न्यायमूर्ति कुरैशी के नाम को मंजूरी में देरी के खिलाफ SC में याचिका दायर

राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) की मुंबई पीठ ने इस साल मई में आर कॉम के लिये कंपनी ऋण शोधन समाधान प्रक्रिया शुरू की है। कंपनी के ऊपर 50,000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है।     

केजरीवाल सरकार ने अब तीर्थयात्रा योजना को पहनाया अमलीजामा

एचएसबीसी डेजी ने रिलायंस इंफ्राटेल द्वारा 230 करोड़ रुपये की कथित भुगतान चूक को लेकर अपीलीय न्यायाधिकरण का दरवाजा खटखटाया। उसने कहा कि रिलायंस इंफ्राटेल ने दिये गये हलफनामा को पूरा नहीं किया। एचएसबीसी डेजी के अलावा नौ अन्य अल्पांश शेयरधारकों ने अवमाननाा याचिका लगायी है। इन सभी की रिलांयस इंफ्राटेल में 4.26 प्रतिशत हिस्सेदारी है। 

#BJP की अनुशासन समिति को नहीं मिला आकाश विजयवर्गीय का मामला

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.