Sunday, Sep 26, 2021
-->
nct-bill-will-be-discussed-in-rajya-sabha-today-kmbsnt

NCT विधेयक पर आज राज्यसभा में चर्चा, विपक्ष बोला- जहां हारेगी BJP वहां लगा देंगे राज्यपाल शासन

  • Updated on 3/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के सदस्यों ने मंगलवार को राज्यसभा में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र शासन संशोधन विधेयक 2021 ((National Capital Territory Governance Amendment Bill)) का भारी विरोध करते हुए हंगामा किया। हंगामे के चलते तीन बार सदन की कार्यवाही स्थगन के बाद अगले दिन यानी आज के लिए स्थगित कर दी गई।

सरकार ने कहा कि विभिन्न दलों के नेताओं के बीच बनी सहमति के आधार पर अब इस विधेयक पर बुधवार को चर्चा हो सकती है। आम आदमी पार्टी ने मंगलवार को सभी विपक्षी दलों से संपर्क कर इस विधेयक का राज्यसभा में विरोध करने का अनुरोध किया था और उसे कांग्रेस का साथ भी मिला।

'LG के अधिकार बढ़ाने वाले बिल को राज्यसभा में पेश न होने दें', संजय सिंह का वेंकैया नायडू को पत्र

कांग्रेस और आप सदस्यों ने किया सदन में हंगामा
जब संशोधन विधेयक सदन में आया तो कांग्रेस और आप के सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। सदन की कार्यवाही तीन बार स्थगित होने के बाद शाम 6:10 पर जब शुरू हुई तो संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि सभी पार्टी के नेताओं के बीच चर्चा में सहमति बनी है कि कल सदन की बैठक सुबह 10:00 बजे शुरू होगी और प्रश्नकाल, शून्यकाल, भोजन अवकाश नहीं होंगे। वित्त विधेयक के बाद एनसीटी बिल सहित अन्य विधेयक पर चर्चा हो सकती है। 

इससे पहले विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने एनसीटी विधेयक को विचार कर पारित करने के लिए पटल पर रखा। विपक्ष के नेता मलिकार्जुन खड़गे ने विधेयक का विरोध करते हुए इसे गंभीर और खतरनाक बताया और कहा कि यह एक चुनी हुई सरकार के अधिकारों को छीनने वाला, लोकतंत्र को बर्बाद करने वाला विधेयक है।

केंद्र ने केजरीवाल सरकार की घर-घर राशन योजना को बताया NFSA का उल्लंघन

बीजेपी जहां हारेगी वहां राज्यपाल शासन लगा देगी- विपक्षी नेता
उन्होंने कहा कि आप इस विधेयक के जरिए उपराज्यपाल को सरकार बनाना चाहते हैं और चुनी हुई सरकार को उनके नौकर बनाना चाहते हैं। आप सांसद संजय सिंह सहित अन्य सदस्यों ने इस विधेयक का विरोध किया और कई सदस्य आसन के निकट भी आ गए। उन्होंने सदन से बाहर कहा कि फिर चुनाव का क्या मतलब है? चुनी सरकार का क्या मतलब है? दिल्ली को विधानसभा संविधान संशोधन से मिली है। सरकार असंवैधानिक तरीके से ये विधेयक ला रही है और इसीलिए हम इसका विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा जहां हारेगी, यह वहां राज्यपाल का शासन कर देंगे। यह तो शुरुआत है। 

ये भी पढ़ें: 

comments

.
.
.
.
.