Wednesday, Oct 27, 2021
-->
neeraj and sumit''''''''s spear hit the right target in e-auction

नीरज और सुमित का भाला ई-नीलामी में भी लगा सही निशाने पर

  • Updated on 9/17/2021

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। ओलंपिक 2020 में नीरज चोपडा और पैरा-ओलंपिक में सुमित अंतिल ने भाला फेंक कर देश का नाम रोशन कर दिया। यही भाला अब ई-नीलामी के दौरान अपने सही निशाने पर लगता हुआ प्रतीत हो रहा है। यही वजह है कि इन दोनों भालों का दाम एक करोड रूपए की बोली को पार कर चुका है। मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उपहारों की ई-नीलामी का तीसरा संस्करण 17 सितंबर से प्रारंभ किया गया है जोकि 7 अक्तूबर तक चलेगा। इस दौरान प्रधानमंत्री को मिले उपहारों के साथ ही ओलंपिक व पैरा-ओलंपिक खिलाडियों के स्पोर्ट्स गियर को भी ई-नीलामी के लिए पहली बार रखा गया है। 
हवेली जो कभी थी दिल्ली की पहली कचहरी

एक करोड से शुरू हुई थी नीरज व सुमित के भाले की बोली
बता दें कि ई-नीलामी के दौरान मिली राशि को नमामि गंगे प्रोजेक्ट को दिया जाता है। हर बार सिर्फ प्रधानमंत्री को मिले उपहारों की नीलामी की जाती है लेकिन इस बार ओलंपियन के स्पोर्टस गियर ने सुबह आॅक्शन शुरू होते ही सबको आश्चर्य चकित कर दिया। बता दें कि जहां सबसे महंगा नीरज चोपडा का वो भाला है जिसे फेंककर उन्होंने स्वर्ण पदक जीता था। सुबह जब इस भाले की नीलामी शुरू हुई तो इसका दाम 1 करोड रूपए तय किया गया था जो शाम 6 बजे तक डेढ करोड पहुंच चुका था। इस भाले की कीमत में सबसे तेजी से उछाल आया और 50 लाख के फायदे में इसकी बोली लगाई गई। जबकि सुमित अंतिल का भाला जिसकी नीलामी 1 करोड से शुरू हुई थी वो 1 करोड 8 हजार रूपए पहुंच चुका था। वहीं सबसे कम दाम यानि 200 रूपए की बोली एक छोटे सजावटी हाथी पर लगाई गई है।  ई-नीलामी में कुल 1330 मोमेंटो को बिक्री के लिए रखा गया है।
पुराना किला ही नहीं, दिल्ली के इन स्थानों के भी जुडे़ हैं पांडवों से नाम

लवलीना के बाॅक्सिंग ग्लबस का जलवा बरकरार
नीले रंग के वो बाॅक्सिंग ग्लबस जिसे पहनकर लवलीना ने सिल्वर मेडल के लिए मुक्का मारा था, उसके दाम देखते-देखते 1 करोड 92 लाख जा पहुंचे थे। बता दें कि इस बाॅक्सिंग ग्लबस जिस पर लवलीना के साईन भी हैं उनका दाम सुबह 10 बजे तक 80 लाख रूपए था।
द्वारका बावली, जो बुझाती थी लोहारहेडी गांव के लोगों की प्यास

कई वस्तुएं हुई करोड ग्रुप में शामिल
सिर्फ नीरज व सुमित का भाला ही नहीं बल्कि वूमेंस हाॅकी स्टिक जिसकी आॅक्शन 80 लाख से शुरू हुई थी, वो एक करोड जा पहुंची है। प्रधानमंत्री को उपहार में मिला एक अंगवस्त्र जो 500 रूपए से शुरू हुआ था वो भी एक करोड शाम तक पहुंच गया। इसके अलावा पीवी सिंधु का रैकेट 90 लाख, प्रमोद भगत का हस्ताक्षर किया हुआ बैडमिंटन रैकेट 90 लाख रूपए तक जा पहुंचे हैं।
प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर एनजीएमए में जुटे कलाकार, दी बधाई

नोएडा डीएम के बैडमिंटन की 10 करोड की बोली, बाद में 50 लाख पहुंची
टोक्यो पैरा-ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाले नोएडा के डीएम सुहास एलवाई के रैकेट की बोली 10 करोड तक लग चुकी है। इसका बेस प्राइज 50 लाख रूपए रखा गया था। हालांकि शाम साढे 7 बजे दोबारा इसका अधिकतम नीलामी मूल्य वेबसाइट पर 50 लाख रूपए दिखाया जा रहा था। ओवर बिड होने की वजह से इस आंकडे को मंत्रालय द्वारा बाद में बदल दिया गया था। बता दें कि ई-नीलामी संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत करवाई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.