Tuesday, Jun 28, 2022
-->
neeraj-murmu-diana-award-of-great-britain-2020-kscf-sobhnt

गिरिडीह के नीरज को मिला Diana Award 2020, बाल श्रमिकों के लिए किया बहुत काम

  • Updated on 7/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन फाउंडेशन (KSCF) द्वारा संचालित गिरिडीह जिले के दुलिया करमबाल मित्र ग्राम के पूर्व बाल मजदूर 21 वर्षीय नीरज मुर्मू को गरीब और हाशिए के बच्चों को शिक्षित करने के लिए ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्माेनित किया गया है।

इस अवार्ड से हर साल 09 से 25 उम्र के उन बच्चों और युवाओं को सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने अपनी नेतृत्व क्षमता का परिचय देते हुए सामाजिक बदलाव में असाधारण योगदान दिया हो। नीरज दुनिया के उन 25 बच्चों में शामिल हैं जिन्हें इस गौरवशाली अवार्ड से सम्मानित किया गया। 

चीनी Apps के बहाने रविशंकर प्रसाद का TMC पर निशाना, पूछा- क्यों कर रही बैन का विरोध

डिजिटल माध्यम से दिया गया अवार्ड
नीरज के प्रमाणपत्र में इस बात का विशेष रूप से उल्लेख है कि दुनिया बदलने की दिशा में उन्होंने नई पीढ़ी को प्रेरित और गोलबंद करने का महत्वपूर्ण काम किया है। कोरोना महामारी सकंट की वजह से उन्हें यह अवार्ड डिजिडल माध्यम द्वारा आयोजित एक समारोह में प्रदान किया गया।  

देशभर में बढ़ी कोरोना टेस्टिंग की रफ्तार! अब तक इतने लोगों की हो चुकी है जांच

नीरज करता था बाल मजदूरी
गरीब आदिवासी परिवार का नीरज 10 साल की उम्र में ही परिवार का पेट पालने के लिए अभ्रक खदानों में बाल मजदूरी करने लगा। लेकिन,बचपन बचाओ आंदोलन (BBA) के कार्यकर्ताओं ने जब उसे बाल मजदूरी से मुक्त कराया, तब उनकी दुनिया ही बदल गई। गुलामी से मुक्त होकर नीरज सत्यार्थी आंदोलन के साथ मिलकर बाल मजदूरी के खिलाफ अलख जगाने लगा। 

चीन एप्स का डेटा यहां करता था इस्तेमाल, भारत ने डिजिटल स्ट्राइक से ऐसे फेरा योजनाओं पर पानी

200 से ज्यादा गरीब बच्चों को पढ़ाते हैं
अपनी पढ़ाई के दौरान उसने शिक्षा के महत्व को समझा और लोगों को समझा-बूझा कर उनके बच्चों को बाल मजदूरी से छुड़ा स्कूलों में दाखिला कराने लगा। ग्रेजुएशन की पढ़ाई जारी रखते हुए उसने गरीब बच्चों के लिए अपने गांव में एक स्कूाल की स्थापना की है। जिसके माध्यम से वह तकरीबन 200 बच्चों  को समुदाय के साथ मिलकर शिक्षित करने में जुटा है। नीरज ने 20 बाल मजदूरों को भी अभ्रक खदानों से मुक्त कराया है।  

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 


 

comments

.
.
.
.
.