Friday, Dec 09, 2022
-->
neet-ug-exam-chemistry-section-was-tough-95-attendance

नीट यूजी परीक्षाः केमिस्ट्री सेक्शन रहा कठिन, 95 फीसद रही अटेंडेंस

  • Updated on 7/18/2022

नई दिल्ली/पुष्पेंद्र मिश्र। देश के प्रतिष्ठित मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, बीएएमएस, बीडीएस, बीएचएमएस, बीएसएमएस, बीयूएमएस आदि जैसे कोर्सों में दाखिले के लिए रविवार को देश के 497 शहरों और विदेश के 14 शहरों में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा(नीट) यूजी का आयोजन किया गया। पेन पेपर मोड में आयोजित किए गए इस टेस्ट के लिए देश भर से 18 लाख 72 हजार 341 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था। दोपहर 2 बजे शुरू हुई परीक्षा के लिए 1.30 बजे तक परीक्षा केंद्रों के गेट खुले रखे गए।

CISCE ने घोषित किए आईसीएसई बोर्ड के नतीजे, 99.97 फीसद रहा रिजल्ट

95 फीसद अभ्यर्थियों ने दी नीट यूजी परीक्षा 
नीट यूजी परीक्षा बाद एनटीए ने बताया कि 95 फीसद अभ्यर्थियों ने परीक्षा में भाग लिया। जिसके बाद शाम 5.20 को परीक्षा समाप्त होने पर परीक्षा केंद्रों से निकले छात्र-छात्राओं ने पेपर को कठिन बताया। दिल्ली में परीक्षा केंद्र के बाहर एक छात्रा मानसा ने कहा कि पेपर के हर सेक्शन में सरल और कठिन सवाल थे। अगर 20 मिनट और मिलते तो पूरा पेपर हो जाता। छात्रा ने कहा कि रसायन विज्ञान सेक्शन बहुत कठिन था लेकिन भौतिक विज्ञान और बॉयोलॉजी आसान रहे।

हैप्पीनेस क्लासः स्कूली बच्चे खुश अभिभावक गदगद

छात्रों को रसायन विज्ञान सेक्शन हल करने में आयी कठिनाई
एक अन्य छात्रा स्वेता ने कहा कि पेपर कठिन रहा। छात्र साहिल ने कहा कि रसायन विज्ञान में फंसा रहा। आकाश में नेशनल अकादमिक डायरेक्टर अनुराग तिवारी ने पेपर के बाद कहा कि भौतिक विज्ञान का स्तर पेपर में सरल से मध्यम रहा। फोटो इलेक्ट्रिक इफेक्ट पर पूछे गए एक सवाल की भाषा विवादित रही। हालांकि भौतिक विज्ञान का पूरा सेक्शन एनसीईआरटी सिलेबस आधारित था। बीते वर्ष के मुताबिक इस साल भौतिक विज्ञान सेक्शन ज्यादा अच्छा रहा।

जेएनयू कुलपति ने एनआईआरएफ रैंकिंग में दूसरा स्थान मिलने का श्रेय सम्मिलित प्रयासों को दिया

एक्सपर्ट ने बताया पेपर का स्तर रहा मॉडरेट 
तिवारी ने कहा कि रसायन विज्ञान सेक्शन छात्रों को कठिन लगा हालांकि यह मध्यम स्तर का था। फैक्ट्स और टेबल्स से ज्यादातर सवाल पूछे गए थे। एक सवाल में टाइपो इरर भी पाया गया। 11 न्यूमेरिकल पूछे गए। बॉटनी सेक्शन में कुछ सवाल तिवारी ने कठिन बताए। उन्होंने कहा कि लिविंग वर्ल्ड और अनॉटामी ऑफ फ्लॉवरिंग प्लांट्स से पूछे गए 2 सवाल गलत थे। जूलोजी सेक्शन थोड़ा लेंदी रहा। इस सेक्शन में बॉयोमॉलीक्यूल्स और बॉयोटेक्नोलॉजी और इसके एप्लीकेशन से पूछे गए सवाल एनसीईआरटी सिलेबस के बाहर के रहे। बॉयोटेक्नोलॉजी चैप्टर से 8 सवाल पूछे गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.