Wednesday, Aug 10, 2022
-->
neet-ug results announced kmbsnt

NEET का रिजल्ट घोषित, शोएब आफताब बने टॉपर

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) द्वारा शुक्रवार यानी आज राष्ट्रीय पात्रता से प्रवेश परीक्षा (NEET-UG) का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। शोएब आफताब बने टॉपर ने इस परीक्षा में 720 में से 720 अंक हासिल किए हैं।

इसके आधार पर सफल उम्मीदवार देशभर के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, बीडीएस, आयुष, बीवीएससी और एएच जैसे प्रोग्रामों में दाखिला ले सकेंगे।

नीट की मेरिट लिस्ट डायरेक्टरेट जनरल ऑफ हेल्थ सर्विस के दिशा निर्देशों पर मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया और डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा तैयार की जाएगी। एनटीए द्वारा जारी कटऑफ के आधार पर उम्मीदवार काउंसलिंग में बैठने के पात्र होंगे। इसके बाद 15 फीसद ऑल इंडिया कोटा व 50 फीसद राज्य कोटा की कटऑफ जारी की जाती है।

छात्रों के पास अब हमेशा उपलब्ध रह सकेगा ONLINE ऑप्शन! बस करनी होगी अब ये तैयारी...

15.97 लाख अभ्यर्थियों ने कराया था पंजीकरण
इस साल 15.97 लाख अभ्यर्थियों ने नीट परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था, जिसमें से 80 से 85 फीसद ने 13 सितंबर को देशभर में आयोजित की गई नीट परीक्षा में हिस्सा लिया है। देश में 519 मेडिकल कॉलेज (268 सरकारी) में 78 हजार 598 सीटें हैं। जहां एमबीबीएस में दाखिला दिया जाता है। वही कुल 307 (50 सरकारी) कॉलेज है जिनकी 26 हजार 949 सीटों पर  बीडीएस के दाखिले होते हैं। 

दिल्ली सरकार ने शुरू किया कौशल और उद्यमिता विश्वविद्यालय, CM केजरीवाल ने जताई खुशी

लगभग 1 लाख को ही मिल पाता है MBBS और BDS में दाखिला
हर वर्ष लाखों छात्र मेडिकल के दाखिले के लिए नीट परीक्षा में बैठते हैं, लेकिन देश में एमबीबीएस और बीडीएस की एक लाख के आसपास सीटों पर ही दाखिला मिल पाता है। बाकी छात्र क्या करें इस परआकाश इंस्टिट्यूट के अनुराग तिवारी से का कहना है कि इन दोनों बड़े कोर्सों के अलावा आयुर्वेद, एलोपैथी, वेटरनरी में विकल्प तलाश सकते हैं।

विदेशी विश्वविद्यालय में दो भाषाओं में मान्य होगी डिजीटल डिग्री- दिल्ली हाईकोर्ट

छात्रों के पास है ये विकल्प
विज्ञान की दूसरी शाखा में भी जाया जा सकता है। हां जो छात्र मेडिकल प्रोफेशनल ही बनना चाहते हैं वह फिर से तैयारी कर दोबारा नेट परीक्षा दे सकते हैं। अच्छी रैंक लाकर मेडिकल कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं। ऐसा हर साल होता आया है प्रतिवर्ष तीन से चार लाख छात्र नीट परीक्षा रिपीट करते हैं।

नीट स्कोर पर दाखिला पाने वाले छात्रों के सामने कुछ और विकल्प यह हो सकता है कि वह विदेश में एमबीबीएस कर ले लेकिन इसके लिए आर्थिक रूप से सक्षम उम्मीदवार ही यह विकल्प सोच सकते हैं। भारत से प्रतिवर्ष छात्रों का एक वर्ग रशिया, चाइना, यूक्रेन, बांग्लादेश आदि देशों के एमबीबीएस प्रोग्राम में दाखिला लेता है या फिर आप दूसरी स्ट्रीम भी चुन सकते हैं।

comments

.
.
.
.
.