Monday, Jan 24, 2022
-->
negative report, till then permission will be given to leave the terminal

ओमीक्रोन का खौफः निगेटिव रिपोर्ट होने पर ही निकल पाएंगे एयरपोर्ट से

  • Updated on 11/29/2021

नई दिल्ली/मुकेश ठाकुर। दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना और हांगकांग में वैश्विक महामारी के खतरनाक नए वेरिएंट ओमीक्रोन के मिलने के साथ ही भारत सरकार भी सतर्क हो गई है। दूसरी लहर में त्रासदी झेल चुकी भारत की सरकार ने सुरक्षात्मक निर्णय लेते हुए एक सर्कुलर जारी कर दिया है।

यह सर्कुलर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश के सभी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए है, जिसमें निर्देश जारी किया गया है कि दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना व हांगकांग से भारत आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर ही अनिवार्य रूप से आरटीपीसीआर जांच होगी।
इस दौरान उन यात्रियों को एयरपोर्ट के टर्मिनल में ही रहना होगा, जबतक कि रिपोर्ट नहीं आ जाती है। रिपोर्ट के नतीजे निगेटिव होंगे तभी यात्री टर्मिनल से निकल घर जाने की इजाजत होगी, जहां उन्हें 7 दिनों तक होम क्वारंटीन में रहना होगा। वहीं, रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर यात्री को 10 दिनों के लिये सरकारी क्वारंटीन सेंटर में जाना होगा। जहां वे चिकित्सकों की निगरानी में रहेेंगे। जांच के दौरान यात्रियों के जीनोम सिक्वेंसिंग भी अनिवार्य रूप से जांच की जाएगी।
गत 15 दिनों में इन तीन देशों से आए यात्री किए जाएंगे ट्रैक
सर्कुलर के अनुसार 12 नवंबर से 27 नवंबर तक 15 दिनों के अंदर इन तीन देशों दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना व हांगकांग से जो यात्री भारत आए हैं। उन्हें भी ट्रैक कर उनकी स्थिति की जानकारी प्राप्त करने को लेकर भी मंत्रालय ने निर्देश दिए हैं। इसमें इन सभी यात्रियों की वर्तमान स्थिति और सर्कुलर जारी किए जाने के बाद उनके आरटीपीसीआर जांच कराने को कहा गया है। संदिग्ध पाए जाने पर उन्हे 10 दिनों के इंस्टीट्यूशनल आइसोलेशन सेंटर में अनिवार्य रूप से भेज दिया जाएगा।

कौन-कौन देश है बी कैटेगरी


भारत सरकार ने अक्टूबर माह में दुनिया भर में फैले कोरोना संक्रमण को देखते हुए जोखिम के हिसाब से दो कैटेगरी में बांटा था। इसमें ए और बी कैटेगरी रखा गया था। एक कैटेगरी में संक्रमण को लेकर कम जोखिम वाले देश हैं। वहीं बी कैटेगरी में अधिक जोखिम वाले देशों को रखा गया है। इसमें यूरोपिय देशों सहित 15 देशों जिसमें यूरोपियन देश, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील , बांग्लादेश , बोत्सवाना , चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड , जिम्बॉबे शामिल है। इन देशों के लिए अलग गाइड लाइन भी जारी की गई थी। पुरानी गाइडलाइन के अनुसार यात्री को यात्रा के 72 घंटों के अंदर की नेगेटिव रिपोर्ट व वैक्सीनेटेड होने की रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड करनी होती थी। साथ ही यहां पहुंच आरटीपीसीआर जांच करानी होती थी, लेकिन यात्री सैंपल देने के बाद अपने घर जा सकते थे। रिपोर्ट आने के बाद नतीजे के अनुसार उन्हें होम या इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन में भेजा जाता था।

 

आईजीआई एयरपोर्ट पर इनके लिए अलग व्यवस्था


इधर इस आदेश के बाद राजधानी दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर इन तीन देशों से आने वाले यात्रियों के लिए अलग व्यवस्था की गई है। ये यात्री वहां जांच रिपोर्ट के आने तक रह सकेंगे। इस दौरान वे अन्य यात्रियों के संपर्क में ना आएं इसकी पूरी व्यवस्था की गई है। साथ ही इस बात का खास ध्यान रखा गया है कि यात्रियों को कोई परेशानी नहीं हो। जांच रिपोर्ट जल्द से जल्द आए, इस बात की भी कोशिश की जा रही है। गौरतलब है कि साउथ अफ्रीका से दिल्ली के लिये सीधे कोई भी उड़ान नहीं है। यात्री अमेरिका या अन्य देशों से होकर कनेक्टिंग फ्लाइट से दिल्ली आते हैं।

comments

.
.
.
.
.