Tuesday, Oct 19, 2021
-->
negligence-in-election-work-then-adm-administration-issued-show-cause-notice

अधिकारियों ने निर्वाचन कार्य में बरती लापरवाही तो एडीएम प्रशासन ने जारी कर दिया कारण बताओं नोटिस

  • Updated on 9/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। निर्वाचन कार्य में लगाए गए जीडीए व लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा लापरवाही बरते जाने पर एडीएम प्रशासन ऋतु सुहास ने सभी को कारण बताओं नोटिस जारी किया है। एडीएम प्रशासन की कार्रवाई के बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने भी 25 अध्यापकों व शिक्षामित्रों को पत्र जारी कर कहा गया है कि यदि वह अपने-अपने बूथों पर नहीं मिले तो उनका वेतन भी रोका जा सकता है। 

एडीएम प्रशासन ऋतु सुहास ने बताया कि 25 सितंबर को निर्वाचन कार्य में लगाए गए सुपरवाइजरों को गरुड ऐप डाउनलोड करने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया था। प्रशिक्षण केन्द्र के प्रभारी तहसीलदार ने गैर हाजिर रहने वाले जीडीए व लोकनिर्माण विभाग के अधिकारियों की सूची जारी की। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने प्रशिक्षण में गैर हाजिर सुपरवाइजरों के मामले को गंभीरता से लिया। उन्होंने एडीएम प्रशासन को इस संबध में कार्रवाई की निर्देश दिया। 

साहिबाबाद क्षेत्र में तैनात किए गए सुपरवाइजर में जीडीए के अवर अभियंता अनिल कुमार शर्मा, अरुण कुमार, गणेश चंद, अजय कुमार सिंघल, आदेश्वर प्रसाद, अनिल कुमार, अजय कुमार व लोक निर्माण विभाग खंड टू के अवर अभियंता नकुल कौशिक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। कारण बताओ नोटिस में कहा गया है कि प्रशिक्षण में उनके गैरहाजिर रहने से बूथों पर लगाए गए बीएलओ भी गरुण ऐप डाउलोड नहीं कर पाएंगे। जोकि निर्वाचन कार्य में घोर लापरवाही है। 

इसी क्रम में लोनी विधानसभा क्षेत्र में लगाए गए शिक्षा मित्र व शिक्षकों के द्वारा निर्वाचन के कार्य को गंभीरता से न लेने, बूथों से गायब रहने के मामले में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने खंड शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखते हुए सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। ऐसे 25 शिक्षक व शिक्षा मित्रों को कड़ी चेतावनी दी गई है कि यदि उन्होंने निर्वाचन के कार्य को सुचारू रूप से नहीं किया तो उनका वेतन भी रोका जा सकता है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.