Tuesday, Mar 09, 2021
-->
nepali archaeological department will dig in thori for real ayodhya sohsnt

PM ओली के दावे को सिद्ध करने की पहल शुरू, असली अयोध्या के लिए थोरी में खुदाई करेगा पुरातत्व विभाग

  • Updated on 7/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने बीते दिनों भागवान राम की जन्मस्थली अयोध्या को लेकर विवादित बयान दिया था। पीएम ओली ने दावा किया कि भारत ने सांस्कृतिक अतिक्रमण के लिए नकली अयोध्या का निर्माण किया है, जबकि भगवान राम की असली अयोध्या नेपाल में है। अब इस मामले को लेकर नेपाल के पुरातत्व विभाग ने अपने देश के दक्षिण में स्थित थोरी गांव को असली अयोध्या साबित करने के लिए खुदाई और शोध कार्य को लेकर पूरी तैयारी कर ली है।

नेपाल: ओली के बयान को भारतीय पुरातत्व ने किया खारिज, अयोध्या में मौजूद राम जन्म के सभी साक्ष्य

विभाग की विभिन्न मंत्रालयों के साथ चल रही बातचीत
 
नेपाल के 'माय रिपब्लिका' अखबार के मुताबिक, ओली के बयान के बाद नेपाल के पुरातत्व विभाग ने क्षेत्र में संभावित पुरातत्विक अध्ययन के लिए विभिन्न मंत्रालयों के साथ बातचीत शुरू कर दी है। वहीं इस पूरे मामले पर डीओए के प्रवक्ता राम बहादुर कुंवर द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, बीरगंज के थोरी में पुरातात्विक अध्ययन शुरू कराया जाए या नहीं इस बात की अभी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। फिलहाल इस मुद्दे पर विभिन्न मंत्रालयों के साथ बातचीत चल रही है।

'नकली अयोध्या' बयान पर अखाड़ा परिषद की नेपाल के PM को चेतावनी, कहा- सड़कों पर उतारेंगे लाखों संत

डीओए के महानिदेशक ने कहा

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान के बाद से पुरातत्व विभाग संबंधित इलाके में पुरातात्विक अध्ययन कराने को लेकर गंभीर है। वहीं डीओए के महानिदेशक दामोदर गौतम द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, विभाग इस मुद्दे पर विशेषज्ञों के साथ चर्चा करेगा। इसके साथ ही विभाग की कोशिश है कि किसी निष्कर्ष तक पहुंचा जाए। वहीं इस मामले में विभाग की ओर से कहा गया है कि पीएम के बयान के बाद अध्ययन करना हमारी जिम्मेदारी हो जाती है, इस दौरान ये भी कहा गया कि 'हम ये नहीं कह रहे हैं कि हमारे पास यह साबित करने के लिए पर्याप्त आधार हैं कि अयोध्या नेपाल में है।'

नेपाल के पीएम ने भगवान राम को बताया नेपाली, कहा- भारत ने बनाई नकली अयोध्या

भगवान राम नेपाली हैं- पीएम ओली

दरअसल, इस पूरे मामले को देखा जाए तो ऐसा माना जा रहा है कि नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने चीन के इशारे पर भारत के खिलाफ विवादित बयान दिया है। पीएम ओली ने दावा किया है कि भारत ने सांस्कृतिक अतिक्रमण के लिए नकली अयोध्या का निर्माण किया है, जबकि भगवान राम की असली अयोध्या नेपाल में है। उन्होंने दावा किया है कि भगवान राम नेपाली हैं। 

नेपाली सुप्रीम कोर्ट का सवाल, नेपाली कामगारों के लिए भारत विदेश क्यों नहीं ?

भारत में जो अयोध्या है वो नकली है- ओली
उन्होंने कहा नेपाल पर सांस्कृतिक अत्याचार किया गया है। ऐसे बताया गया है कि हमने भारतीय राजा राम को सीता थी। उन्होंने आगे कहा, हमने भारत में स्थित अयोध्या के राजा राम को सीता नहीं दी, बल्कि नेपाल के अयोध्या के राजकुमार को दी थी। उन्होंने कहा भारत में जो अयोध्या है वो नकली है वास्तविक नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.