Monday, Jun 01, 2020

Live Updates: Unlock- Day 1

Last Updated: Mon Jun 01 2020 04:26 PM

corona virus

Total Cases

191,327

Recovered

92,027

Deaths

5,413

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA67,655
  • TAMIL NADU22,333
  • NEW DELHI19,844
  • GUJARAT16,794
  • RAJASTHAN8,831
  • MADHYA PRADESH8,089
  • UTTAR PRADESH8,075
  • WEST BENGAL5,501
  • BIHAR3,807
  • ANDHRA PRADESH3,571
  • KARNATAKA3,221
  • TELANGANA2,698
  • JAMMU & KASHMIR2,446
  • PUNJAB2,263
  • HARYANA2,091
  • ODISHA1,948
  • ASSAM1,340
  • KERALA1,270
  • UTTARAKHAND907
  • JHARKHAND635
  • CHHATTISGARH503
  • HIMACHAL PRADESH330
  • TRIPURA316
  • CHANDIGARH293
  • GOA71
  • MANIPUR71
  • PUDUCHERRY70
  • NAGALAND43
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA27
  • ARUNACHAL PRADESH4
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
new cases in india corona virus confirm through stool study covid19

भारत में जल्द बढ़ सकते हैं संक्रमित मामले! इंसानी मल की जांच से जल्द सामने आएगा संक्रमण- शोध

  • Updated on 3/18/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर भारत में चरम पर है। भारत में अब तक 150 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जबकि 3 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण देशभर में इसे रोकने और बचाव के कार्य तेजी से किये जा रहे हैं। इसके पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि संक्रमित लोगों के संपर्क में आए 5,700 से अधिक लोगों पर निकटता से नजर रखी जा रही है।

दिल्ली में संक्रमण के अब तक 11 मामले सामने आए हैं जिनमें एक विदेशी शामिल हैं जबकि उत्तर प्रदेश में एक विदेशी समेत 16 मामले दर्ज किए गए हैं। महाराष्ट्र में तीन विदेशियों समेत 41 मामले सामने आए हैं जबकि केरल में दो विदेशी नागरिकों समेत 27 मामले दर्ज किए गए हैं। कर्नाटक में कोरोना वायरस के 11 मरीज हैं। लद्दाख में संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हो गए हैं और जम्मू- कश्मीर में इसकी संख्या बढ़कर 3 हो गई है। तेलंगाना में 2 विदेशियों समेत 5 मामले सामने आए हैं।

कोरोना वायरस को लेकर बड़ा फैसला, Covid 19 से जुड़े टेस्ट होंगे फ्री

स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने जताई आशंका 
वहीँ, इसी बीच स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉक्टर टी. जैकब जॉन ने आशंका जताई है कि भारत कोरोना वायरस का अगला सबसे बड़ा और प्रमुख केंद्र बनने जा रहा है। डॉक्टर की माने तो चीन, इटली, ईरान के बाद भारत में कोरोना वायरस तेजी से फैल सकता है, क्योंकि भारत में उस स्तर की तैयारियां मौजूद नहीं है जिससे कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को पहचाना जा सके। 

बता दें,  डॉक्टर जॉन इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च सेंटर (ICMR)  के एंडवांस्ड रिसर्च इन वायरोलॉजी सेंटर के पूर्व प्रमुख रह चुके हैं।

कोरोना वायरस को HIV की दवा से हराने की हो रही है कोशिश, पढ़ें पूरी खबर

क्या कहा डॉक्टर ने...
डॉक्टर टी. जैकब जॉन ने कहा है कि भारत का मौसम और जनसंख्या इस वायरस को फैलाने के लिए काफी है, क्योंकि लोग इलाज से और क्वारंटीन से बचने के लिए भाग रहे हैं। डॉ. जैकब जॉन ने चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तक कोरोना मरीजों की संख्या धीमी गति से बढ़ रही है, लेकिन 15 अप्रैल तक कोरोना मरीजों की संख्या में 10 से 15 गुना ज्यादा हो जाएगी, क्योंकि देश में कोरोना वायरस को लेकर उठाए गए कदम पर्याप्त नहीं हैं। इतना ही नहीं, भारत में न ही पर्याप्त साधन हैं और न ही सेवाएं जिससे कोरोना फैलने से रोका जा सके।

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार

एक रिपोर्ट ने किया नया खुलासा 
वहीँ, कोरोना वायरस को लेकर चीन की एक यूनिवर्सिटी ने एक शोध के बाद खुलासा किया है कि कोरोना वायरस सिर्फ छूने, छींकने या खांसने से नहीं फैलता बल्कि कोरोना वायरस संक्रमित इंसान के स्टूल यानि मल से भी दूसरे इंसानों में फैल सकता है, इसलिए शोधकर्ताओं का मानना है कि दुनियाभर में जितने भी कोरोना वायरस के संदिग्ध लोग सामने आये हैं उनका स्टूल टेस्ट (मल जांच) भी किया जाए ताकि पुख्ता जांच हो सके।

Coronavirus की जांच के लिए आएंगी नई मशीनें, इटली- जापान में पहले से हो रहा इस्तेमाल

क्या है इस शोध में...
बताया जा रहा है कि चीन की हॉन्गकॉन्ग यूनिवर्सिटी के मेडिसिन विभाग के रिसर्चकर्ताओं ने 14 कोरोना वायरस मरीजों के शरीर से 339 सैंपल लिए। जिसमें मल, मूत्र, नाक से स्वैब, गले से थूक और खून की जांच को शामिल किया गया था। इस शोध से जो सामने आया वो चौंकाने वाला था। इस शोध से सामने आया है कि तीन मरीजों के नाक के स्वैब, गले के थूक में कोरोना संक्रमण नहीं मिला। लेकिन सभी 14  मरीजों के मल में कोरोना का संक्रमण स्पष्ट तौर पर दिखाई दे रहा था। ये सभी इंसानी मल की वजह से ही संक्रमित हुए भी थे, यानी अगर खून, थूक और नाक के स्वैब से भी संक्रमण सामने नहीं आ पायेगा तो व्यक्ति के स्टूल से वायरस का संक्रमण जल्दी पकड़ में आएगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.