Thursday, Sep 23, 2021
-->
new-research-argues-pluto-should-be-reclassified-as-a-planet

वैज्ञानिकों का दावा, गलत तरीके से छीना गया Pluto से ग्रह का दर्जा

  • Updated on 9/14/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वैज्ञानिको की एक नई समीक्षा ने प्लूटो को एक ग्रह के रूप में फिर से दर्जा देने को कहा गया है। वैज्ञानिको का कहना है कि इसे फिर से ग्रहों की श्रेणी में रखना चाहिए। खगोलविदों के वैश्विक समूह अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ (आईएयू) ने 2006 में ग्रह की एक परिभाषा स्थापित की थी जिसके तहत ग्रह को अपनी कक्षा को 'स्पष्ट' करना जरूरी है। 

ऐसा इसलिए है क्योंकि नेप्च्यून की गुरुत्वाकर्षण यानी ग्रेविटी प्लूटो को प्रभावित करती है, और प्लूटो कुइपर बेल्ट के भीतर स्थित जमे हुए गैसों और वस्तुओं के साथ अपनी कक्षा साझा करता है। प्लूटो का वर्तमान पद सबसे छोटे ग्रह के रूप में है , जिसे एक ग्रह-द्रव्यमान वस्तु के रूप में परिभाषित किया गया है जो न तो एक वास्तविक ग्रह है और न ही एक प्राकृतिक उपग्रह है और जिसने अपनी कक्षा के चारों ओर अन्य सामग्री के लिए पड़ोस को मंजूरी नहीं दी है। प्लूटो से संबंधित 2006 का निर्णय तब से विवादास्पद साबित हुआ है। 

'पति को कैसे मारें' किताब लिखने वाली हुई पति की हत्या में गिरफ्तार

इकारस नाम के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि ग्रहों के वर्गीकरण के लिये यह मानक अनुसंधान साहित्य से मेल नहीं खाता। उन्होंने पिछले 200 साल के वैज्ञानिक साहित्य की समीक्षा की और पाया कि सिर्फ 1802 के एक प्रकाशन में ग्रह के वर्गीकरण के लिए स्पष्ट कक्षा की जरूरत का इस्तेमाल किया गया है और यह तब के अपुष्ट लॉजिक पर आधारित थी। उपग्रह जैसे शनि के टाइटन और बृहस्पति के यूरोपा को गैलीलियो के वक्त से ही ग्रह विज्ञानियों द्वारा ग्रह कहा जाता था।

वैज्ञानिकों ने कहा प्लूटो को फिर से ग्रह माना जाए

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा के ग्रह विज्ञानी फिलिप मेट्जगर ने कहा कि 'आईएयू परिभाषा कहती है कि ग्रह विज्ञान का मूल उद्देश्य, ग्रह, को उस परिकल्पना पर परिभाषित किया जाना था जिसे किसी ने अपने अनुसंधान में इस्तेमाल नहीं किया हो।' 

रिसर्च से दावा! जवान लोगों का खून पीने से बढ़ती है उम्र

बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त प्राधिकरण के रूप में कार्य करता है जो खगोलीय निकायों (जैसे सितारों, ग्रहों, क्षुद्रग्रहों) और उन पर किसी भी सतह की विशेषताओं के लिए पदनाम और नाम निर्दिष्ट करने के लिए कार्य करता है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.