Sunday, Jun 13, 2021
-->
New Zealand broke extradition treaty with Hong Kong sohsnt

न्यूजीलैंड ने तोड़ी हांगकांग के साथ प्रत्यर्पण संधि, सुरक्षा कानून का दिया हवाला

  • Updated on 7/29/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चीन को ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और ब्रिटेन के बाद अब न्यूजीलैंड ने भी एक बड़ा झटका दिया है। न्यूजीलैंड ने हांगकांग के साथ प्रत्यर्पण संधि को निलंबित करने का फैसला लिया है। ऐसे में विदेश मंत्री विंस्टन पीटर्स का कहना है कि न्यूजीलैंड को भी अब संदेह है कि हांगकांग की आपराधिक न्याय प्रणाली चीन के दबाव से पूरी तरह मुक्त है। उन्होंने कहा, यदि चीन भविष्य में 'एक देश, दो सिस्टम' के नियम को लागू करता है तब हम इस बारे में विचार करेंगे।

सरकार ने अफगानिस्तान में सिख व हिंदू पर हो रहे अत्याचार की निंदा की, उठाया ये बड़ा कदम

विदेश मंत्री विंस्टन पीटर्स ने कहा ये बात

सैन्य उपकरण और तकनीकी उत्पाद को लेकर पीटर्स का कहना है, कि अब हम ये उत्पाद हांगकांग को उन्हीं नियमों और दामों पर निर्यात करेंगे जैसे चीन के साथ करते हैं। हम हांगकांग के साथ अपने संबंधों पर पुन: विचार करेंगे। अमेरिका पहले ही हांगकांग को मिलने वाली विशेष सहायता और मदद बंद कर चुका है। अर्द्ध स्वायत्त क्षेत्र में चीन द्वारा नए सुरक्षा कानून को लागू करने के बाद ‘फाइव आइज’ समूह के आखिरी सदस्य ने यह निर्णय किया है।

अमेरिका-चीन के बीच बढ़ा तनाव, शंघाई के करीब से उड़े अमेरिकी लड़ाकू विमान

अंतरराष्ट्रीय नियमों के खिलाफ चीन का कानूून
विदेश मंत्री विंस्टन पीटर्स ने आगे कहा, चीन ने नया सुरक्षा कानून हांगकांग में लागू किया है वो अंतरराष्ट्रीय बिरादरी द्वारा बनाए गए नियमों के खिलाफ है। उन्होंने कहा हमने अपने नागरिकों को नए कानून के तहत आने वाली समस्याओं की जानकारी से अवगत कराया है और ये फैसला किसी के दबाव में नहीं लिया गया है। उन्होंने कहा वे इस कदम से निर्यात पर पड़ने वाले प्रभावों की कोई चिंता नहीं करते।

चीनी डॉक्टर का कोरोना को लेकर बड़ा खुलासा, कहा- वुहान बाजार से मिटाए गए सारे सबूत

हांगकांग का विशेष दर्जा खत्म कर चुका है अमेरिका

हांगकांग के साथ प्रत्यर्पण संधि को पहले ही अन्य सदस्य देश ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और ब्रिटेन निलंबित कर चुके हैं। वहीं अमेरिका एक कदम आगे आकर हांगकांग का विशेष दर्जा भी खत्म कर चुका है। दरअसल, चीन और न्यूजीलैंड के व्यापारिक संबंधों की बात की जाए तो, चीन इस मामले में पहले नंबर पर आता है यही कारण है कि चीन, न्यूजीलैंड के साथ कभी कोई राजनीतिक टकराव नहीं चाहता है। 

comments

.
.
.
.
.