Thursday, Apr 02, 2020
nhrc notice to yogi bjp government on up police action against caa protesters

CAA प्रदर्शनकारियों के खिलाफ यूपी पुलिस की कार्रवाई पर योगी सरकार को NHRC का नोटिस

  • Updated on 2/10/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एनएचआरसी (NHRC) ने उत्तर प्रदेश सरकार को एक नोटिस भेजा है। इस नोटिस के कुछ दिन पहले ही राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मानवाधिकार आयोग के शीर्ष अधिकारियों से मुलाकात कर राज्य में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों पर पुलिस के कथित अत्याचार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। 

मोदी सरकार ने आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर संसद को गुमराह किया: कांग्रेस

कांग्रेस ने 27 जनवरी को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) का रूख कर उत्तरप्रदेश में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस के कथित अत्याचार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। कांग्रेस के नेताओं ने आरोप लगाया था कि मामले में दर्ज एफआईआर में पीड़ितों का नाम आरोपी के तौर पर शामिल किया गया और किसी भी पुलिस अधिकारी का इसमें नाम नहीं आया। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- प्रदर्शनकारी शाहीन बाग की पब्लिक रोड रोक नहीं कर सकते

प्रतिनिधिमंडल ने एनएचआरसी अध्यक्ष और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी और 31 पन्ने का एक विस्तृत आवेदन दिया। राज्य में कथित अत्याचार और मानवाधिकार उल्लंघनों के सबूत के तौर पर वीडियो और तस्वीरें भी सौंपी गयी। बैठक के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि उत्तरप्रदेश सरकार ने ‘अपने ही लोगों के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया’ और उन्होंने एनएचआरसी को ²ढ़ता से नागरिकों के संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया। 

उमर अब्दुल्ला की #PSA के तहत नजरबंदी को उनकी बहन ने दी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

अधिकारी ने कहा, ‘‘एनएचआरसी ने हाल में कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के आयोग पहुंचने और शीर्ष अधिकारियों से मुलाकात के बाद मुद्दे का संज्ञान लिया । इस संबंध में उत्तरप्रदेश के मुख्य सचिव को एक नोटिस भेजा गया है और छह हफ्ते में जवाब मांगा गया है । ’’ 

दिल्ली चुनाव: मुस्लिम मतदाताओं ने कांग्रेस की बजाय AAP पर किया भरोसा!

comments

.
.
.
.
.