Friday, May 07, 2021
-->
Nirbhaya Gangrape kangana ranaut Supreme court Asha devi

निर्भया के दोषियों को मिलने के बाद बोलीं कंगना, हमारा सिस्टम हो गया है पुराना

  • Updated on 3/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। यौन उत्पीड़न (sexual assault) के देश के सबसे बड़े अपराधों में से एक 2012 के निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gangrape case) में 7 साल बाद शुक्रवार को देश की सुप्रीम न्यायालय (Supreme Court) ने चारों आरोपियों को सजा दे दी। इस निर्णय के बाद देश के लोग काफी खुश हैं मगर दोषियों को फांसी चढ़ने में 7 साल लग जाने के बाद मशहूर अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने इस मामले पर टिप्पणी की है। 

बॉलीवुड एक्ट्रेस कनिका कपूर पर भड़के यूजर्स, कहा- आज से इसका नाम विषकन्या

सिस्टम में सुधार की जरुरत
कंगना ने कहा है कि हमारा न्यायिक सिस्टम बहुत पुराना और अपारर्दशी है। न्यायालय ने निर्भया गैंगरेप जैसे बड़े अपराधों जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था उसमें भी सजा देने में 7 साल का समय लगा लिया। मुझे याद है कि 'क्वीन' (Queen) की शूटिंग के दौरान में भी निर्भया के लिए हो रहे प्रदर्शनों में हिस्सा लिया था। इस तरह के घिनौने अपराधों में न्याय जल्द मिलना चाहिए। इनडायरेक्टली हम लोगों ने निर्भया की मां और उसके परिवार को 7 साल तक प्रताड़ित किया है। 
कनिका कपूर प्रकरण के बाद अनुपम खेर ‘आइसोलेशन’ में, लौटे थे अमेरिका से

बहुत देर से मिला न्याय
इस केस में न्यायिक सिस्टम ने बहुत समय लिया है। जिस समय दोषियों को फांसी दी गई उस समय तक लोग उसे भूलकर आगे बढ़ गए हैं। मैं निर्भया की मां की परेशानी समझ सकती हूं कि मेरी मां का नाम भी आशा है। वह कहती हैं कि मुझे अभी तक याद है जब मेरी बहन रंगोली (Rangoli chandel) पर एसिड हमला किया गया था उसके बाद न्यायपालिका ने दोषियों को बेल दे दी थी और मेरी बहन परेशानियों से जूझ रही थी।
Coronavirus: फैंस से अक्षय कुमार का अपील, कहा- दूसरों की जिंदगी खतरे में ना डालें

मैं अभिनेत्री थी मगर आम लोगों का क्या ?
लोग हमसे पूछ रहे थे कि तुमने उन लोगों को कैसे छूट जाने दिया। वह वो समय था जब हमें अपने न्यायिक सिस्टम पर गुस्सा आ रहा था। उस हादसे ने मैं मेरी बहन के कान जल गए थे और उसकी आंखों को भी नुकसान हुआ था। जिसके बाद हमने उसकी सर्जरी कराई चूंकि मैं एक अभिनेत्री हूं इसलिए मेरे लिए यह आसान था मगर आम नागरिक के लिए यह आसन नहीं है।वह समय हमें लोगों का सामना करना मुश्किल हो रहा था लोग हमसे बार-बार पूछ रहे थे कि हमने दोषियों को आजाद होने दिया। आप सोचिए निर्भया की मां पिछले 7 साल से लोगों को किस तरह झेल रहीं होंगी।

comments

.
.
.
.
.