Monday, Dec 06, 2021
-->
nirmala sitharaman says modi bjp economic package epf coronavirus msme loan nbfc rkdsnt

आर्थिक पैकेज में MSME को 3 लाख करोड़ का बिना गारंटी के लोन : सीतारमण

  • Updated on 5/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 20 लाख करोड़ रुपये आर्थिक पैकेज का सिलसिले वार तरीके से ब्योरा पेश करना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि आर्थिक पैकेज के जरिए देश को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश की जारी है। आने वाले दिनों में पूरी टीम के साथ आर्थिक पैकेज के बारे में और भी बहुत कुछ बताया जाएगा। हमारे पास डेटा है, लेकिन हम इसके बारे में अभी नहीं बताएंगे। लेकिन, इतना तय है कि लोगों को फायदा हो रहा है। 

प्रशांत भूषण और यशवंत सिन्हा को भी हुई आर्थिक पैकेज से घोर निराशा, गिनाई खामियां

इसके साथ ही 3 महीने में किसानों, गरीबों के लिए कई कदम उठाए गए हैं। सीतारमण ने कहा कि समाज के कई वर्गों से बातचीत कर आर्थिक पैकेज तैयार किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी भी पैकेज पर चर्चा में शामिल रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने देश के सामने बड़ा विजन रखा है। कुटीर उद्योग के लिए 6 कदम उठाएंगे।  

AAP सांसद बोले- आर्थिक पैकेज से एक बात तो साफ हो गई कि...

संकट में फंसे छोटे उद्योग के लिए 20 हजार करोड़ रुपये दिए गए हैं। कुटीर उद्योग को बचाने के लिए ग्लोबल टेंडर पर रोक लगाई गई। इसके साथ ही सरकार ने 15,000 से कम वेतन वाले कर्मियों का EPF देने का ऐलान किया है। कंपनियां अब 12 फीसदी के बजाय 10 फीसदी EPF जमा करेंगी।

सीतारमण की PC के बाद अनुराग कश्यप ने पूछा- उधार और Relief-Package में क्या फर्क है ?

शशि थरूर ने 'आत्मनिर्भर भारत मिशन' को बताया मेक इन इंडिया का न्यू वर्जन

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने इस मौके पर कहा कि लॉकडाउन के कुछ घंटों बाद ही पैकेज का ऐलान किया गया, 41 करोड़ खातों में सीधे मदद पहुंची है। दुनिया को देखें तो भारत के हालात बेहतर हैं। MSME को 3 लाख करोड़ का बिना गारंटी के लोन दिया गया है। इसकी समय सीमा चार वर्ष की होगी। इसके साथ ही NBFC सेक्टर के लिए 30 हजार करोड़ की योजना लाने का फैसला किया है। इससे गैर वित्तीय क्षेत्र की कंपनियों को फायदा होगा।

कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था। पीएम ने कहा था  कि यह जीडीपी के 10 फीसदी के बराबर है। लेकिन इसका खुलासा पीएम ने नहीं किया है कि इसका फायदा किस तरह से किस को होने जा रहा है। 

पीएम मोदी के संबोधन से बेहद निराश दिखे वामदल नेता सीताराम येचुरी, 3 मुद्दे गिनाए

विपक्ष की निगाहें भी सीतारमण की चरणबद्ध घोषणाओं पर हैं। इसके बाद ही विपक्ष केंद्र की मोदी सरकार के आर्थिक पैकेज पर सटीक प्रतिक्रियाएं देखने को मिलेंगी। अभी सभी विपक्षी दल वेट एंड वॉच की स्थिति में है। इस तरह सीतारमण के लिए आने वाले दिन परीक्षा की तरह होंगे। 

PM मोदी के ऐलान पर अनुराग कश्यप ने उठाए सवाल, अनुपम-परेश रावल ने जताया भरोसा

आर्थिक जानकारों को भी आर्थिक पैकेज के खुलासे का बेसब्री से इंतजार है। इसके आधार पर ही विशलेषण किया जाएगा कि किसकी झोली में कितना रुपये किस रूप में जा रहा है। इससे पहले सरकार आरबीआई के जरिए 4.5 लाख करोड़ का पैकेज पहले जारी कर चुका है। लेकिन इसके बारे में भी खुलासा नहीं हुआ है कि यह किस तरह कहां खर्च हो रहे हैं। साफ है कि पैकेज की पारदर्शिता सभी के लिए बहुत जरूरी है।

गुजरात हाई कोर्ट ने भाजपा मंत्री की चुनावी जीत का बताया अवैध, कांग्रेस बोली- सत्यमेव जयते

कांग्रेस बोली- 'मदद की हेल्पलाइन' का है इंतजार 
आर्थिक पैकेज पर कांग्रेस का अभी भी केंद्र की मोदी सरकार पर भरोसा नहीं हो रहा है। पार्टी का कहना है कि पीएम ने  'हेडलाइन' तो दे दी है, लेकिन देश को 'मदद की हेल्पलाइन' का इंतजार है। वादे से हक़ीक़त तक का सफ़र पूरा होने का इंतज़ार रहेगा। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में लिखा है, मा. मोदी जी, आपने सम्बोधन से मीडिया को ख़बर बनाने को “हेडलाइन” तो दे दी पर देश को “मदद की हेल्पलाइन” का इंतज़ार है। वादे से हक़ीक़त तक का सफ़र पूरा होने का इंतज़ार रहेगा।

कोरोना संकट : पीएम नरेंद्र मोदी के राष्ट्र संबोधन की ये हैं 4 बड़ी घोषणाएं

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.