Friday, Jan 24, 2020
nitin gadkari pchidambaram amit shah narendra modi congress bjp rahul gandhi

चिदंबरम ने की मोदी और शाह को फंसाने की कोशिश, हम नही करते बदले की भावना से काम: गडकरी

  • Updated on 12/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने आज दो टूक कहा कि भाजपा, चिदंबरम या किसी अन्य के खिलाफ बदले की भावना से काम नहीं कर रही है और आरोप लगाया कि यह चिदंबरम ही थे जिन्होंने वित्त मंत्री के तौर पर अतीत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi), गृह मंत्री अमित शाह (amit shah) और स्वयं उन्हें भी फर्जी मामलों में फंसाने की कोशिश की थी लेकिन वह सभी निर्दोष साबित हुए थे।       
उद्धव ने शरद पवार से पीएम नरेंद्र मोदी के दिये प्रस्ताव पर उठाया सवाल

क्या बोले गडकरी
केन्द्रीय सड़क परिवहन, राष्ट्रीय राजमार्ग एवं लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘हम बदला लेने वाले लोग नहीं हैं। लेकिन दूसरी तरफ चिदंबरम (Chidambaram) वित्त मंत्री पद पर रहते झूठे मामले दर्ज करवा रहे थे। चिदंबरम जब कांग्रेस सरकार में वित्त मंत्री थे तब उन्होंने मोदी, शाह और मेरे खिलाफ झूठे मामले दर्ज करवाए थे। गडकरी ने कहा, चिदंबरम ने हम सभी को फर्जी मामलों में फंसाने की कोशिश की लेकिन बाद में हम सभी अदालतों में निर्दोष साबित हुए।
जानें लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने किसे कहा बहन और मांगी माफी  

पूरा देश जानता है चिदंबरम ने क्या किया  
उन्होंने कहा, ‘‘चिदंबरम ने गृह मंत्री रहते भी क्या किया, पूरा देश जानता है।’’ गडकरी ने कहा, चिदंबरम के खिलाफ धन शोधन मामलों में पर्याप्त सबूत हैं और उनसे पूछताछ भी हुई है । मामला विचाराधीन है और अब अदालत ही फैसला करेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम प्रवर्तन निदेशालय (ED) का दुरुपयोग नहीं कर रहे हैं। चिदंबरम को जमानत मिलने से यह नहीं साबित होता कि वह निर्दोष हैं। उनके खिलाफ जो मामले हैं उनमें कानून की प्रक्रिया के अनुसार कार्रवाई हुई है।’’      गडकरी ने कहा कि जहां तक चिदंबरम के मामले में कांग्रेस (Congress) के आरोप हैं कि उन्हें आईएनएक्स मीडिया (INX media case) मामले में फंसाया गया है तो यह बात अदालत में साबित होगी कि क्या सच है और क्या झूठ है। इससे पूर्व आज उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज आईएनएक्स मीडिया हवाला मामले में 106 दिनों बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को आज जमानत दे दी।     

नागरिकता संशोधन विधेयक पर BJP के साथ आयी शिवसेना, कहा- करेंगे घुसपैठियों का विरोध

वित्तमंत्री रहते गलत किया पद का इस्तेमाल
आरोप है कि वित्त मंत्री रहते हुए चिदंबरम ने आईएनएक्स मीडिया को गलत तरीके से विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड मामले में मदद की थी। सीबीआई (CBI) ने मई 2017 में इस संबंध में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था और चिदंबरम को पहली बार 21 अगस्त को इस मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा गिरफ्तार किया गया था लेकिन दो महीने बाद सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें जमानत दे दी थी। जबकि 16 अक्तूबर को उन्हें हवाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार किया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.