Thursday, Jun 17, 2021
-->
no-interim-protection-from-arrest-of-kalra-in-oxygen-black-marketing-case-court-rkdsnt

ऑक्सीजन कालाबाजारी मामले में नवनीत कालरा को दिल्ली हाई कोर्ट से नहीं मिली राहत 

  • Updated on 5/14/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने ऑक्सीजन सांद्रकों की कथित कालाबाजारी के मामले में नवनीत कालरा के अग्रिम जमानत के अनुरोध को शुक्रवार को ठुकरा दिया और राहत नहीं देने के निचली अदालत के कारणों से सहमति जताई। सत्र अदालत ने कालरा की अग्रिम जमानत की याचिका को बृहस्पतिवार को खारिज करते हुए कहा था कि उसके खिलाफ लगे आरोप गंभीर हैं और ‘‘पूरी साजिश का पर्दाफाश करने के लिए उसको हिरासत में लेकर पूछताछ किए जाने की जरूरत है।’’ 

गुजरात के सीएम रूपाणी की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के आरोप में डिस्क जॉकी हिरासत में 

जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद ने मामले की सुनवाई 18 मई के लिये निर्धारित करते हुए कहा, ‘‘मैं निचली अदालत द्वारा दिए गए कारणों से सहमत हूं। फिलहाल किसी प्रकार का अंतरिम संरक्षण नहीं देने के लिए वाजिब कारण हैं।’’ अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल एस वी राजू के अनुरोध के बाद मामले की सुनवाई 18 मई तक स्थगित कर दी गयी। मामले में कालरा की तरफ से पेश वकील वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी और विकास पाहवा ने अदालत से अनुरोध किया कि तब तक कुछ अंतरिम संरक्षण दिया जाए। 

पीएम मोदी नहीं निभा रहे हैं राजधर्म : कांग्रेस

सिंघवी ने अदालत से कहा कि पुलिस पूरी मुस्तैदी से कालरा की तलाश कर रही है और उसके परिजनों और दोस्तों के आवास पर भी गयी है और जब तक अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई हो रही है तब तक पुलिस को वहां नहीं जाना चाहिए। एएसजी राजू ने उच्च न्यायालय से याचिका पर 18 मई को सुनवाई करने का अनुरोध करते हुए कहा कि उनके पास फर्जी कंपनियों के संबंध में कई सूचनाएं हैं और अदालत के समक्ष इसे पेश करने के लिए कुछ समय की जरूरत है। 

राज्यों को अगले 15 दिनों में 192 लाख कोरोना रोधी टीके निशुल्क देगा केंद्र : स्वास्थ्य मंत्रालय

हाल में की गयी छापेमारी के दौरान कालरा के तीन रेस्त्रां ‘खान चाचा’, ‘नेगा जू’ और ‘टाउन हॉल’ से 524 ऑक्सीजन सांद्रक बरामद किए गए थे और ऐसा संदेह है कि वह अपने परिवार के साथ दिल्ली छोड़कर चला गया है। ऑक्सीजन सांद्रक कोविड-19 के इलाज में महत्वपूर्ण चिकित्सकीय उपकरण हैं। 

बंगाल में हिंसा को लेकर अब विश्व हिन्दू परिषद ने खोला मोर्चा, राष्ट्रपति से लगाई गुहार

भारतीय दंड संहिता की धारा 420 (जालसाजी), 188 (लोक सेवक के आदेश की अवज्ञा), 120-बी (आपराधिक साजिश) और 34 (समान इरादे से काम करना) के तहत कालरा के खिलाफ पांच मई को एक मामला दर्ज किया गया था।      ऑक्सीजन सांद्रकों की कालाबाजारी के लिए आवश्यक वस्तु कानून और महामारी कानून के तहत भी प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.