Monday, Oct 03, 2022
-->
no-pakistan-ambassador-in-france-proposed-call-back-prsgnt

पाक PM इमरान खान के फ्रांस को भेजे गए इस प्रस्ताव के कारण दुनिया भर में उड़ाया जा रहा है मजाक

  • Updated on 10/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। फ़्रांस में राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) के इस्लामी कट्टरवाद (Islamic Fundamentalist) के खिलाफ दिए गए बयान के बाद उन्हें दुनियाभर के देशों से मिल रही आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। इतना ही नहीं, इस्लाम धर्म पर आधारित देशों में इस बयान के खिलाफ लगातार प्रदर्शन किए जा रहे हैं। 

राष्ट्रपति मैक्रों के विरोध में बांग्लादेश, इराक, ईरान, कुवैत, तुर्की, पाकिस्तान में कड़ा विरोध जताया जा रहा है। लोगों ने सड़कों पर उतर कर जोरदार प्रदर्शन किए हैं। इसी कड़ी में पाकिस्तान ने भी मैक्रो के बयान की आलोचना करते हुए प्रदर्शन किए हैं और इमरान खान सरकार ने इसे निंदनीय बताया है। 

आतंक को मिल रही फंडिंग के खिलाफ NIA का बड़ा एक्शन, कश्मीर से लेकर बेंगलुरु तक मारे छापे

लेकिन इस दौरान पाक प्रधानमंत्री इमरान खान से जल्दबाज़ी में एक ऐसा बयान जारी कर दिया जिससे अब उनका दुनियाभर में मज़ाक बनाया जा रहा है। इमरान खान ने बिना सोचे-समझे पाकिस्तान की संसद में फ्रांस से अपने राजदूत बुला लाने का प्रस्ताव रख दिया। लेकिन सच तो ये है कि पाकिस्तान का कोई भी राजदूत पिछले तीन महीने से फ़्रांस में नहीं है। 

दरअसल, इमरान ने बिना जानकारी लिए ही फ़्रांस से अपने राजदूत को वापस बुलाने के लिए प्रस्ताव रख दिया। जबकि फ़्रांस में तैनात पाकिस्तान के राजदूत मोइन-उल-हक का तबादला चीन में राजदूत के पद पर कर दिया गया था। लेकिन इमरान के इस बिना सोचे-समझे वाले प्रस्ताव पर अब उनकी जगहसाई हो रही है। 

हिजबुल चीफ सैयद सलाहुद्दीन, हाफिज सईद का जीजा UAPA के तहत ‘आतंकवादी’ घोषित, देखें लिस्ट

इमरान खान के इस प्रस्ताव पर उनके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी सहमति जताई थी। जिसकी वजह से उन्हें भी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। इस प्रस्ताव को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर मज़ाक बनाया जा रहा है। लेकिन इस बीच पाक से सामने आई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि विदेश मंत्री को जानकारी थी कि उनका कोई भी राजदूत फ़्रांस में नहीं है लेकिन उन्होंने संसद में पैदा हुए हालातों को देखते हुए पीएम से सहमति जता दी। 

वहीँ, पाकिस्तान के एक दैनिक अखबार 'द डेली' में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांस में पेरिस दूतावास में मिशन के डिप्टी हेड मोहम्मद अहजद काजी ही पाकिस्तान से जुड़े कामकाज को देख रहे हैं। वो पेरिस में सबसे वरिष्ठ राजदूत हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.